अधिशासी अभियंता जल संस्थान के वेतन रोकने के निर्देश

अधिशासी अभियंता जल संस्थान के वेतन रोकने के निर्देश 



रूद्रप्रयाग। जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल द्वारा राष्ट्रीय राजमार्ग पर गतिमान कार्यों का (ज्वाल्पा पैलेस से डाट पुल) तक का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान वार्ड नंबर 07 में पेयजल की अस्थायी पेयजल की सुचारू व्यवस्था न होने पर अधिशासी अभियंता जल संस्थान के वेतन रोकने के निर्देश दिए। कहा कि जल संस्थान द्वारा जब तक क्षतिग्रस्त पेयजल योजना की मरम्मत कर लोगो को वैकल्पिक अस्थायी व्यवस्था कर पानी की आपूर्ति नही की जाती तब तक वेतन आहरित नही किया जाएगा। इसके साथ ही जल संस्थान को राष्ट्रीय राजमार्ग के मानकानुसार सड़क के दोनों ओर पाइप लाइन बिछाने के निर्देश दिये जिससे भविष्य में कोई समस्या न हो।

राष्ट्रीय राजमार्ग के कार्यो की धीमी प्रगति पर नाराजगी व्यक्त करते हुय हर हाल में मजदूरों की संख्या बढ़ाकर कार्य मे तेजी लाने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने अधिशासी अभियंता राष्ट्रीय राजमार्ग श्रीनगर दिनेश कैमर को  प्रत्येक दिन के कार्यों की मॉनिटरिंग कर रिपोर्ट जिला कार्यालय को प्रेषित करने, सहायक अभियंता का हेड क्वाटर जनपद में निवास करने के निर्देश दिये। कहा कि जनपद में कार्य चल रहा है तो सहायक अभियंता को जनपद में ही निवास करना चाहिये। गुलाबराय में एन.एच द्वारा संजय देवली का पिट क्षतिग्रस्त करने पर एन.एच को पिट बनाने के भी निर्देश दिये।

डाट पुल पर चल रहे स्टील गडर पुल के कार्यों की निरीक्षण के दौरान पुनाड गदेरा में पहंुचकर स्टील गडर पुल के डिजाइन के अनुरूप कार्यों की जांच करने  पर पाया गया कि कार्य प्रोजेक्ट डिजाइन के अनुरूप कार्यदायी संस्था द्वारा कार्य नही किया जा रहा है। डिजाइन के अनुरूप कार्य न होने पर जिलाधिकारी ने असंतोष व्यक्त करते हुय अधीक्षण अभियंता लोनिवि की अध्यक्षता में त्रिसदस्यीय जांच समिति गठित की। समिति द्वारा स्टील गडर पुल पर आतिथि तक किये गए कार्यों की जांच की जाएगी कि कार्यदायी संस्था ने प्रोजेक्ट के अनुरूप कार्य किया है या नही। जिलाधिकारी ने तीन दिन के भीतर समिति को विस्तृत जांच कर रिपार्ट उपलब्ध कराने के निर्देश दिए है। समिति में एस.सी लोनिवि के साथ ही ई.ई सिंचाई व ई.ई पी.एम.जी.एस.वाई सदस्य है।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां