पीएम मोदी की जनता से अपील 22 मार्च को जनता कर्फ्यू की अपील

*प्रधानमंत्री का राष्ट्र के नाम सम्बोधन*




विश्व संकट के गम्भीर दौर से गुजर रहा है , कोरोना ने पूरी मानव जाति को संकट में डाला ,कोरोना वर्ल्ड वार 2 से भी अधिक विनाशकारी , कोरोना के सम्बंध में निश्चित हो जाने की सोच सही नही है , इसके प्रति हर भारतीय को सजग रहने की जरूरत है , मैं 130 करोड़ देश वासियों से कुछ मांगने आया हो , मुझे आपके आने वाले कुछ सप्ताह चाहिए , अभी तक विज्ञान कोरोना महामारी से बचने के लिए कोई वैक्सीन नही बना पाया है , कोरोना पर अध्ययन से ये ज्ञात हुआ कोरोना की स्तिथि कुछ देशों में कुछ ही समय मे बहुत तेजी से बढ़ी है , भारत जैसे 130 करोड़ वाली आबादी वाले देश के सामने कोरोना का ये संकट सामान्य बात नही है , बड़े विकसित देशों में जो प्रभाव देखा जा रहा है ,भारत पर इसका प्रभाव नही पड़ेगा ये मानना गलत है ।
हमे ये संकल्प लेना होगा हम स्वयं संक्रमित होने से बचेंगे और दूसरों को भी संक्रमित होने से बचाएंगे , 
संयम - भीड़ से बचना , घर से बाहर निकलने से बचना ।
हमारा संकल्प व संयम इस महामारी से बचने के लिए बड़ी भूमिका निभाने वाला है।
सरकारी सेवा , मीडियाकर्मी ओर जनप्रतिनिधियों की सक्रियता तो आवश्यक है पर समाज के बाकी लोगो को भीड़भाड़ से खुद को अलग कर लेना चाहिए ।
हमारे परिवारों में 65 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्ति घर से नही निकले
22 मार्च को जनता कर्फ्यू की अपील

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां