مارس 2020
chamoli S D R F W H O अगस्त्यमुनि अंतरराष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट अंतरराष्ट्रीय महिला अंतरिक्ष अधीनस्थ सेवा चयन आयोग अनलॉक डाउन अनलॉक फॉर गाइड लाइन जारी अनुकृति गुसाईं रावत अपराध अभिनेता अल्मोड़ा आईएमए पासिंग आउट परेड आजादी का जश्न आत्मनिर्भर आपद प्रबंधन आपदा आपदा प्राधिकरण आपदा श्रीनगर गढ़वाल आबकारी आम आदमी उत्तराखंड आयुष आयूर्वैदिक आरटीपीसीआर आर्थिक इगास इंटरव्यू इटली इंद्रमणी बड़ोनी ईटावा उच्च शिक्षा उत्तर प्रदेश उत्तरकाशी उत्तराखंड उत्तराखंड आबकारी उत्तराखंड कलाकार उत्तराखंड कांग्रेस उत्तराखंड कोरोना उत्तराखंड कोरोना अपडेट उत्तराखंड गाइडलाइन उत्तराखंड पुलिस उत्तराखंड प्रवासी सोनू सूद उत्तराखंड बोर्ड उत्तराखंड राजनीति उत्तराखंड विधायक उत्तराखंड सरकार उत्तराखंड सिनेमा उत्तराखंड हेल्थ बुलेटिन उधम सिंह नगर उधममसिंह नगर उपनल कर्मियों उर्वशी रौतेला ऊखीमठ ऊधम सिंह नगर ऋषिकेश ऋषिकेश एम्स ऋषिकेश-कर्णप्रयाग एच एन बी विश्वविद्यालय एम्स ऋषिकेश कोरोनावायरस एम्स ऋषिकेश वारियर एम्स कोरोना अपडेट एम्स हेल्थ बुलेटिन एस कोरोना अपडेट औचक निरीक्षण कर्णप्रयाग कर्नाटक कविता कविता कोरोनावायरस कांग्रेस काठगोदाम कानपुर काफल कामयाबी कार्बेट नेशनल पार्क कांवड़ यात्रा किच्छा कुंभ घोटाला कुर्मांचल परिषद कृषि केदारनाथ केन्द्रीय सरकार कैबिनेट कैबिनेट बैठक कैबिनेट मंत्री कोटद्वार कोरोन वारियर कोरोना कोरोना अपडेट कोरोना कर्फ्यू शासन आदेश कोरोना कविता कोरोना दवाई कोरोना देश कोरोना पर सख्त कोरोना पॉजिटिव कोरोना बैठक कोरोना रोकथाम कोरोना वायरस कोरोना वारियर कोरोना वैक्सीन कोरोना समीक्षा बैठक कोरोनावायरस कोविड वैक्सीनेशन क्राइम क्रांइम क्वारंटाइन क्वांरेंटाइंन क्वॉरेंटाइन खाद्धय खाद्यान्न सामग्री खेल गंगोत्री नेशनल हाईवे गणतंत्र दिवस परेड गीत संगीत गुड़गांव गुमशुदा गुलदार गृह मंत्रालय गैरसैंण गोवा राज्यपाल ग्रीष्मकालीन राजधानी घनसाली चमोली चमोली आपदा चाइनीज एप चाइनीज एप्स चारधाम चारधाम यात्रा चिरबटिया जखोली जखोली जखोली पालाकुराली जखोली फतेडू जगदी जनता के नाम संदेश जन्मदिन श्रीदेव सुमन जयंती जयपुर जानकारी जापान जोशीमठ झारखंड झूठी अफवाह टिहरी टिहरी औचक निरीक्षण टिहरी घनसाली डिजिटल डीएम डॉ धन सिंह रावत डॉ हरक सिंह रावत डोईवाला तबादला तबादले तस्करी तीन बच्चों को जन्म तीरथ कैबिनेट तीरथ सिंह रावत तोताघाटी त्रिवेंद्र सिंह रावत त्रिस्तरीय पंचायत थराली दर्शन लाल आर्य दशहत दिल्ली दुर्घटना दून दूरदर्शन देवकी भंडारी देवस्थान बोर्ड देश देश दुनिया देश बजट देहरादून देहरादून आमिर खान देहरादून कैबिनेट देहरादून मुख्यमंत्री देहरादून सचिवालय देहरादून हादसा धरना प्रदर्शन धर्म धारचूला धार्मिक नई गाइडलाइन नई दिल्ली नगर निगम नंदा देवी नरेन्द्र सिंह नेगी नशा निधन नैनीताल पतंजलि पद्दम भूषण पुरस्कार परिवहन पर्यटक पर्यटन पर्वतारोहण पलायन पशुपालन पासिंग आउट पासिंग आउट परेड पिथोरागढ़ पिथौरागढ़ पीएनबी पीएम पीएम सम्मान पुरोला पुलिस पूर्व सैनिक पेयजल आपूर्ति पेशावर काण्ड पोड़ी पौड़ी पौड़ी कोरोना पौड़ी गढ़वाल पौड़ी नगरपालिका प्रधानमंत्री प्रधानमंत्री राहत कोष प्रवासियों प्रवासी प्रवासी उत्तराखण्डी प्रशिक्षण प्रीतम भरतवाण फटी जीन्स फादर्स डे फिल्म जगत फूलदेई बगावत बड़ी खबर बद्रीनाथ धाम बांगर बागेश्वर बाघ बाजपुर बालिका दिवस बिहार बिहार आपदा बैंक बोली भाषा संस्कृति ब्योकी रस्याण ब्लैक फंगस भाजप उप चुनाव भाजपा भारत भारत निर्वाचन भारतीय रिजर्व बैंक भालू का हमला भावभीनी श्रद्धांजलि भूकंप मंत्रीमंडल विस्तार मत्स्य पालन मध्य प्रदेश मसूरी महाराष्ट्र महाविद्यालय महिला शक्तिकरण महेंद्र सिंह धोनी मित्र पुलिस मुख्य सचिव मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री उत्तराखंड मुख्यमंत्री राहत कोष मुख्यमंत्री विधानसभा गैरसैंण मुख्यमंत्री विमोचन मुख्यमंत्री सोशल मीडिया मुख्यमंत्री स्टाफ मुख्यमंत्री स्वरोजगार मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना मुजफ्फरनगर मुंबई मुम्बई मुलाकात मेडिकल कॉलेज मेरा गांव मौत मौसम यमकेश्वर यातायात नियम युवाओं को प्रेरेणा यूपी पुलिस योग रक्तदान रक्षा क्षेत्र रक्षाबंधन रमेश पोखरियाल निशंक राजनिति उत्तराखंड राजनीति राजस्थान राज्यपाल रानीखेत राम मंदिर रामदेव रामनगर रामायण राष्ट्रपति सम्मान राष्ट्रीय राष्ट्रीय वेवीनार रुड़की रुद्रप्रयाग रूद्रपुर रूद्रप्रयाग रूद्रप्रयाग जिला रूद्रप्रयाग जिला पंचायत अध्यक्ष रेलवे रैबार पांच खबर दिनभर रोजगार समाचार रोपणी लखनऊ लुठियाग लॉक डाउन लॉक डाउन 4 लॉकडाउन लोक पर्व लोकल फॉर वोकल वन विभाग वाद्य यंत्र वाध्य यंत्र वायरल मैसेज वायरल वीडियो विज्ञान विशेष विश्व पर्यावरण दिवस विश्वविद्यालय वीआरओ वीरता व्यक्तिव शख्सियत शहिद शहीद शादी शिक्षक शिक्षा शिक्षा विभाग शोक संवेदना श्रद्धांजलि श्रीनगर श्रीनगर गढ़वाल सख्सियत संघ सचिवालय सतपाल महाराज सतपाल महाराज एवं अमृता रावत समाज सेवा समाजसेवा समीक्षा बैठक संमूण फाउन्डेशन सम्मान संयुक्त राष्ट्र अवार्ड सरकारी नोकरी सरोज खान सल्ट संस्कृत शिक्षा संस्कृति सहकारिता साइबर कांइम सांसद निधि साहित्य साहित्यिक साहित्यिकार सीएम सीएम को ट्विट सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत सीएम राहत कोष सीएमओ देहरादून सीबीआई सुंदर लाल बहुगुणा सुसाइड सूचना महानिदेशक सूरत सूर्यग्रहण सेना सेवा चयन आयोग सोनू सूद का आभार सोशल डिस्टेंसिग स्पर्श गंगा स्वरोजगार स्वागत स्वास्थ्य स्वास्थ्य विभाग हरक सिंह रावत हरिद्वार हरीश रावत हरेला हल्द्वानी हंस फाउंडेशन हादसा पौड़ी हेल्थ बुलेटिन होली





रंग कूची कु जादूगर,बेमिसाल चित्रकार-नरोत्तम आर्ट-
             रंगिळा बसंत कु रैबार,








                                               बेहतर कलाकार 
-                                                 'नरोत्तम पंवार'






लस्या पट्टी जखोली ब्लाॅक त्यूखर गौं का एक साधारण परिवार बटि निकल्यां नरोत्तम पंवार जी आम पहाड़ी की चार गौं मा ही रैन, कबारि हौळ लगौंणा बाद स्कूल गैन त कबारि धौंन मरड्यू बै जंगल छोडी।
पर सामणि बटि नगेला देवता कु आशीर्वाद अर ऐंच भद्वाणों का वीर नरसिंह कु छैल मिलणू रै




तबे त स्कूलीदिनों मा आम लड़का जख पेंसिल पकड़ी आम अनार केला दगडि जख साड़ी किनारा डिजाइन तक ही अपडि कलाकारी दिखौंणा रैन, तखि नरोत्तम पंवार आम अर साड़ी किनारों डिजाइन बटि चित्रकारी प्रतिभा दगडि एक खास शख्सियत की  तरफां पौछिगिन।


दिन-रात पेंसिल कागज दगडि रेखाचित्र बणौंदि बणौंदि आज एक स्तरीय चित्रकार का तौर पर सोशल साइट पर खूब चर्चित छिन।
बात कन मा मयाळा, सीदा-सच्चा नरोत्तम पंवार जी अपडि कूची रंग अर पेंसिल पकडि कैकी भी तस्वीर हूबहूं खींच द्यौंदा।
या प्रतिभा यखितै सीमित नी च, बहुआयामी प्रतिभा का धनी नरोत्तम पंवार जी एक बेहतरीन कलाकार भी छिन। बचपन बटि ही रामलीला, चक्रव्यूह मंचन मा सक्रिय रेतै भौत कुछ सीखिन अर चरितार्थ भी करी।

अपडै दम पर कै आॅडियो-वीडियो कैसेट निकालिन,
खानसोड़ का मेला पर गीत रिलीज करिन।
खुद की अलगै धुन शब्द गीत बणौंण का बाद भी डिजिटलाइजेशन यूटयूबीकरण का दौर मा रोजीरोटी का खातिर अपडि ईं कला तै अल्पविराम द्यौंण पड़ी! पर चित्रकारी की प्रतिभा भितरे-भितर घच्वन्नी रै।
टैम-बिटैम, सेकडों, पेंटिंग अर फोटो तस्वीर तैयार करलिन,  यौंमदि भौत सारी तस्वीर पहाड़ी संस्कृति,  पारंपरिक वेशभूषा की जीवंत तस्वीर छिन।
आज भी दिल्ली जन सैर मा रोजगार का बाद भी पारिवारिक टैम बटि टैम निकाली नरोत्तम पंवार जी आॅन डिमांड तस्वीर बणौंणा।
समाज मा सकारात्मक छवि तै उजागर कन वौळि शख्सियतों तै  भी नरोत्तम पंवार जी बसंती रंग द्यौंणा छिन।


जौंमदि- रूद्रप्रयाग जनपद का बहुचर्चित लोकप्रिय जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल जी ह्वोन या विश्व पर्यावरण चेतना की पुरोधा गौरा देवी, या सचिन तेंदुलकर, लता मंगेशकर हर शख्सियत तै अपणि पेंसिल- कूची दगडि ससम्मान रंग द्यौंणा।
पर खेद अर चिंता कु विषय यु च कि! पहाड़ की यूं प्रतिभाओं तै स्या पछांण नि मिल सकी,जैका सि वाकई हकदार छिन।
फोटो-कैमरा से इतर अगर आप भी अपणा माँ-पिताजी, या दादा-दादी, बड़ा-बुजुर्गों या नौन्याळू तै कुछ भेंट द्यौंण चांदा, त आप ये बेहतर, 'नवाचारी' परमानेंट विकल्प पर विचार करा अर नरोत्तम जी से संपर्क करा।
नरोत्तम आर्ट का सजिळा मयाळा रंगों दगडि अपड़ों की तस्वीर खेंचा।


शाशन-प्रशासन स्तर पर  भी यन कलाकारी का नायाब हीरा तरांशण अर मंच द्यौंण की कवायद ह्वोंण चैंदि।
बात कन पर नरोत्तम जी न बथै फोटो बणौण मा मैनत दगड़ि रंग, पेस्ट, कागज लगण आम बात च, त मोल भाव पूछण पर बतौंदा कि एक तस्वीर कु मूल्य लगभग लगण वौळा खर्च का बरौबर ही 500 रूप्या ही रख्यूं च।
जबकि मैनत अर टैम भी लगदू, पर चित्रकारी का शौकीन नरोत्तम जी की नेक सोच पर कम से कम मूल्य पर सि, ये काम कना छिन।
 फ्येर त करा दुं संपर्क---
---------+917045431594 नरोत्तम पँवार जी
त आप भी देखा, परखा, ईं बेहतरीन कलाकारी तै।
     -------@अश्विनी गौड़ दानकोट रूद्रप्रयाग बटि------


धूम सिंह रावत कु गीत मचोणू धूम
फाइल फोटो-धूम सिंह,रावत, प्रसिद्ध गायक
दीपक कैन्तुरा
देहरादून- पूरी दुनिया मां आजकल कोरोना वायरस का गहरा संकट मां फंस्या च अर देश दुनिया का तमाम देशों मां  लॉक डाउन होंयों च अर यन मां देश का पीएम राज्यों का सीएम अर जिलों का डीएमों का दगड़ी पूरी दुनिया कोरोनावायरस तैं लेटी लोगों तैं जागरुक करणा च साहित्यकार कवि लेखक अपनी कविता लेखों का माध्यम सी पत्रकार बंधु समाचारों का माध्यम सी सामाजिक संगठन तमाम छोटा बड़ा लोग अपणा अपणा हिसाब सी शोशल मीडिया पर जागरुक करणा च यनि उत्तराखंड का लोकगायक गायिका अपणा गीतों का माध्यम सी लॉक डाउन  पर लोगों पर जागरुक करणा च। कर उत्तराखंड का चर्चित गायक धूम सिंह रावत कु कोरोना वायरस अर लॉक डाउन पर यू गीत सोशल मीडिया पर खूब पसंद ओणु च अर वायरल होणु च


देखा पूरा गीत कु वीडियो


क्या है कोरोना वायरस, जानें इसके लक्षण और बचाव के उपाय।


फाइल फोटो-डॉ जितेंद्र सिन्हा





  • क्या है कोरोना वायरस-

कोरोना वायरस (सीओवी) का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है। बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ इसके लक्षण हैं। अब तक इस वायरस को फैलने से रोकने वाला कोई टीका नहीं बना है।


क्या हैं इसके लक्षण
कोरोना वायरस के लक्षण स्वाइन फ्लू जैसे हैं। इसके संक्रमण के फलस्वरूप नाक बहना, बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, सिर में तेज दर्द, निमोनिया, ब्रॉन्काइटिस और गले में खराश जैसी समस्याएं उत्पन्न होती हैं।
कहां से फैलना शुरू हुआ वायरस
यह वायरस सबसे पहले चीन के वुहान शहर से फैलना शुरू हुआ। इसके बाद इससे पीड़ित मरीज थाईलैंड, सिंगापुर, जापान में भी मिल रहे हैं। हाल ही में इंग्लैंड में भी एक परिवार के इस वायरस की चपेट में आने की जानकारी सामने आई है।
बरतें जरूरी सावधानियां
स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कोरोना वायरस से बचने के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। इन निर्देशों के अनुसार हर व्यक्ति अपने हाथ साबुन-पानी या अल्कोहल युक्त हैंड रब से साफ करें।
-खांसते या छींकते हुए अपनी नाक और मुंह को टिश्यू या मुड़ी हुई कोहनी से ढकें। जिन्हें सर्दी या फ्लू जैसे लक्षण हों उनके साथ करीबी संपर्क बनाने से बचें।
-भीड़भाड़ वाली जगह पर न जाएं, खास तौर पर चीन से सफर कर लौटे व्यक्ति से दूर रहें। सब्जी और फलों को खाने से पहले अच्छी तरह धोएं।
-जिन देशों या जगहों पर इस बीमारी का प्रकोप फैला है, वहां यात्रा करने से बचें। सार्वजनिक स्थानों, सार्वजनिक यातायात के साधनों में कुछ भी छूने या किसी से हाथ मिलाने से बचें।
 डॉ जितेंद्र सिन्हा
प्रोफ़ेसर
सांई कॉलेज देहरादून

निजी अस्पतालों और नर्सिंग होम में ओपीडी खुली  रहेगी


इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की मुख्यमंत्री के साथ बैठक।


कोरोना से बचाव में सरकारी व निजी अस्पतालों में समन्वय पर विचार विमर्श



मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सोमवार को सीएम आवास में कोविड-19 कोरोना वायरस  के संक्रमण से बचाव के संबंध में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के साथ महत्वपूर्ण बैठक की। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना से बचाव के लिए राज्य सरकार हर सम्भव कोशिश कर रही है। इसमें प्राईवेट चिकित्सा संस्थानों का सहयोग बहुत जरूरी है। वर्तमान में दून अस्पताल, महंत इंद्रेश अस्पताल, एम्स ऋषिकेश व हिमालयन अस्पताल में कोविड-19 कोरोना के मरीजों के लिए बेड आरक्षित रखे गए हैं। यहां के चिकित्सकों को कोरोना के ईलाज मे नियुक्त किया  गया है। इससे अन्य निजी अस्पतालों की जिम्मेदारी बढ गई है। इसलिए सभी निजी अस्पताल और नर्सिंग होम अपने यहां ओपीडी खुली रखें। ताकि आमजन अन्य बिमारियों की दशा में अपना ईलाज सुगमता से करा सके।  सरकार निजी चिकित्सा संस्थानो को हर प्रकार की सहायता देगी। मुख्यमंत्री ने पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों को निर्देशित किया कि निजी अस्पतालों में ओपीडी की व्यवस्था सही रखने में सहयोग करें। मेडिकल एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री को आश्वस्त किया कि कोरोना से लङाई में सरकार का पूरा सहयोग किया जाएगा। यह लङाई केवल सरकार की नहीं पूरे देश और समाज की है। 

बैठक में उच्च शिक्षा राज्य मंत्री डॉ धनसिंह रावत, मुख्य सचिव श्री उत्पल कुमार सिंह,  सचिव स्वास्थ्य श्री नितेश झा, एनएचएम के निदेशक श्री युगल किशोर पंत, आईएमए के अध्यक्ष डॉ अजय खन्ना,  सीएमआई के चेयरमैन डॉ आरके जैन, डॉ महेश कुडियाल, डॉ अरविंद ढाका, डॉ डीडी चौधरी, डॉ अजीत गैरोला, डॉ सिद्धार्थ गुप्ता, डॉ संजय गोयल, डॉ कृष्ण अवतार, डाॅ प्रवीण मित्तल, डॉ शनवीर बामरा आदि उपस्थित थे।

कोरोना वायरस में फंसे जरूरतमंद लोगों तक पहुंचे खाद्य सामग्री,हंस फाउंडेशन ने शुरू किया ऑपरेशन नमस्ते अभियान





कोरोना वायरस के चलते फंसे लोगों के लिए हंस फाउंडेशन ने शुरू किया ऑपरेशन नमस्ते अभियान,जरूरतमंद व्यक्ति तक पहुँचे खाद्य सामग्री


कोरोना वायरस के चलते देश में  लोगों जहां के तहां फंस गए है। लोगों को खाना और अन्य जरुरी सामान पहुंचाने के लिए सरकार और जिला प्रशासन प्रयासरत है। वहीं,आमलोग भी किसी न किसी रुप में फंसे लोगों की मदद कर रहे हैं। 

इस कड़ी में समाज सेवा के लिए हमेशा तत्पर रहने वाले द हंस फाउंडेशन ने माता मंगला जी एवं श्री भोले जी महाराज जी के आशीर्वाद से कोरोना वायरस के चलते फंसे देश के नागरिकों को सहयोग के लिए ऑपरेशन नमस्ते  अभियान की शुरुआत की है। इस अभियान के माध्यम से देश में  गरीब और निर्धन लोगों को उनके घरों तक सोशल नेटवर्किंग द्वारा खाद्य आपूर्ति की जा रही है। 

ऑपरेशन नमस्ते अभियान के बारे में हंस फाउंडेशन की प्रेरणास्रोत समाजसेवी माताश्री मंगला जी ने अपने संदेश में कहा है कि हम सबसे पहले तो आप सभी से निवेदन करते है आप सब इस संकट के समय जहाँ है वहाँ रहकर अपना और अपने परिवार का ख्याल रखें। साथ ही लॉकडाउन के नियमों का पालन करें और अपने घर से बाहर न निकलें। 

माताश्री मंगला जी ने अपने संदेश में कहा कि माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के निवेदन को मानिए जिसमें प्रधानमंत्री जी ने कहा है कि लॉकडाउन के दौरान आप सोशल डिस्टेंसिंग जरूर बढ़ाएं लेकिन इस दौरान आप इमोशनल डिस्टेंस घटाएं,इसका आप सभी पालन करें। 

इस संकट के समय में हंस फाउंडेशन देश के साथ खड़ा हैं और हम डिजिटल इंडियाके माध्यम से एवं सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन करते हुए  देश में  जरूरतमंद लोगों तक खाद्य सामग्री पहुंचाने का भरसक प्रयास  कर रहे है।

 मुंबई कौथिग फाउंडेशन के माध्यम से हम मुंबई में होटलों में काम करने वाले उत्तराखंड के लोगों और परिवारों को मदद पहुँचा रहे है। साथ ही उत्तर प्रदेश एवं दिल्ली के विभिन्न स्थानो में जरूरतमंद लोगों को सहयोग प्रदान किया जा रहा है। 

आपको बता दें कि हंस फाउंडेशन के तत्वावधान में चलाए जा रहे आपरेशन नमस्ते के जरिए उन लोगों तक डिजिटल इंडिया के माध्यम से खाद्य आपूर्ति की जा रही हैं। जो आज के समय में बहुत जरूरतमंद है। 

इसी के साथ उत्तराखंड में दुर्गम क्षेत्रों में बसे गाँव तक हंस फाउंडेशन की टीमों द्वारा डिजिटल इंडिया के तहत निरंतर मदद पहुँचाई जा रही है। 

इसी के साथ हंस फाउंडेशन कोरोना वायरस से निपटने के लिए उत्तराखंड में स्वास्थ्य के क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका रहा है। उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल में सतपुली में स्थित 'हंस फाउंडेशन जरनल अस्पताल' के साथ-साथ हंस फाउंडेशन द्वारा वित्तपोषित,उत्तराखंड के 06 अस्पतालों में कोरोना वायरस से लड़ने की व्यवस्था की जा रही है।

 जगमोहन 'आज़ाद'



देहरादू




राज्य में एक और मरीज में कोरोना की पुष्टि।।     

 47 साल के व्यक्ति में कोरोना की पुष्टि

राज्य में पॉजिटिव मरीजों की संख्या पहुंची सात।

मिलेट्री अस्पताल में कराया गया भर्ती



कोरोना के मामलों में लगातार हो रहा इजाफा

तीन कोरोना पोजटिव मरीजों के सेम्पल आ चुके है नेगटिव


मूल निवासी राजस्थान

 छुट्टी से आया था

 सूबेदार है

तबीयत खराब होने पर एमएच रेफर किया

 टू टू बटालियन चकराता में तैनात

देहरादून 









केंद्र सरकार के आदेश के बाद राज्य सरकार ने 31 मार्च की अंतर्जनपदीय  यातायात की घोषणा को लिया वापस


लॉक डाउन को सख्ती से लागू करने के राज्य सरकार के आदेश 

राज्य सरकार ने कहा को जहां है वह वहीं रहेगा लॉक डाउन की तिथि तक 

किसी भी तरह की आवाजाही  होगी सख्ती से प्रतिबंधित


फोटो-अशोक कुमार,डीजी कानून व्यवस्था




 देहरादून-लॉक डाउन के दौरान कर्मचारी,मजदूर को तनख्वाह नहीं देने पर उत्तराखण्ड पुलिस मालिकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करेगा। इसके अलावा नौकरी से हटाए कर्मचारियों और मजदूरों को हटाए जाने पर  मालिक के खिलाफ पुलिस मुकदमा दर्ज करेगी। प्रदेशभर में रह रहे किराएदारों से मकान मालिक एक महीने का किराया नहीं लेंगें। अगर मकान मालिक किराए लेने का दबाव बनाते है तो पुलिस मकानमालिक के खिलाफ मुकदमा दर्ज करेगी। इसमें छात्रों को भी राहत दी गयी हैं। डीजी क़ानून व्यवस्था अशोक कुमार ने बताया हैं कि केन्द्र सरकार के आदेश पर प्रदेश में सख्ती से इसका पालन कराया जाएगा।

    

दून के रीजेंटा होटल में ठहरे ब्रिटिश नागरिक की नोएडा में कराई गई जांच में कोरोना वायरस का संक्रमण पाया गया। जिला प्रशासन को इसकी सूचना मिलते ही अधिकारियों में हड़कंप मच गया। जिलाधिकारी डॉ. आशीष श्रीवास्तव के आदेश पर होटल को तत्काल प्रभाव से सील कर दिया गया। इसके साथ ही विदेशी नागरिक के संपर्क में आने वाले अब तक 10 कर्मियों की जानकारी मिली है। जिन्हें चिकित्सा दल की निगरानी में क्वारंटाइन कराया जा रहा है। इससे पहले दून में कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते एहतियात के तौर पर होटल फ़ॉर प्वाइंट व सरोवर पोर्टिको को सील किया जा चुका है।

अपर मुख्य चिकित्साधिकारी व कोरोना के नोडल अधिकारी डॉ. डीएस चौहान ने बताया कि ब्रिटिश नागरिक 12 मार्च को होटल में पहुंचा था। वह होटल में तीन दिन रहने के बाद 15 मार्च को नोएडा लौट गया था। इस बीच वह होटल के तमाम कर्मियों के संपर्क में आया और अन्यत्र भी घूमा। बताया जा रहा है कि कोरोना संक्रमण के लक्षण विदेशी नागरिक में तभी से सामने आने लगे थे। अब नोएडा में कराई गई जांच के बाद संक्रमण की पुष्टि भी ही चुकी है। मामले की गंभीरता को देखते हुए विदेशी नागरिक के यहां रुकने की अवधि में उपस्थित कर्मियों की खोज खबर शुरू कर दी गई है। प्रारंभिक जांच में सेलाकुई में रहने वाले 10 कर्मियों का पता चला है। ये सब अभी स्वस्थ बताए जा रहे हैं। मगर, कार्मिकों की संख्या और भी अधिक होगी। इसी लिहाज से पूछताछ जारी है। कोई भी कार्मिक अभी खुलकर बोलने को तैयार नहीं है। फिलहाल सामाजिक सुरक्षा को देखते हुए जिलाधिकारी ने अग्रिम आदेश तक होटल को किसी की भी  गतिविधि के लिए बंद करा दिया है।





       समझा अपणी जिम्मेदारी-दूर करा कोरोना की बीमारी
                          दीपक कैन्तुरा


फाइल फोटो-मंगेश घिल्डियाल, जिलाअधिकारी, रूद्रप्रयाग


  • देश विदेश की बिटी भी घर ऐंन तो 14 दिन अलग रेंण पडलू घर मा
  • शासन प्रशासन का आदेश का पालन न करण पर ह्वे सकदी कदी जेल कर भन पडलू जूर्माना
  • घर का भैर नी घुमण कर ना कै दगड़ी छ्वीं लगाण
  • रूद्रप्रयाग का जिलाअधिकारी मंगेश  घिल्डियाल न दिनी कड़ी चेतावनी
  • हर गों बटिन मिलणी लापरवाही की शिकैत
  • सरकार अर प्रशासन कु सहयोग करा अपमी जान का दगडी अपमान गौं कु दुश्मन न बणा
  • यना लोगों की गौं वाला शिकैत प्रशासन तैं करी सकदन
  • देखा वीडियो मा डीएम की  कड़ी चेतावनी 





 रुद्रप्रयाग -पूरी दुनिया चीन का  कोरोना वायरस की बीमारी सी जूझणी च । अर अब या बीमारी हमारा देश मां भी एगी अर या बीमारी विदेश की धरती बटिन उत्तराखंड की धरती मां एगी जु लोग विदेश बटिन औंणा च बीमारी भी तों दगडी औंणी च हमारा उत्तराखण्ड का भाई रोजगार का खातिर  दुनिया का अलग अलग देशों मां च कर आजकल देश का अलावा विदेश मां भी लॉक डाउन होंयों च अर यन मां सब्यो तैं घर औंणे की होड़ लगीच।भौत सारा लोग घर भी एगिन पर जब उतें बोलणा च की 14दिन तक अलग रेंणक तैं बोल्यो च पर यीं लोग यीं बात तैं हल्का मां लेणा च अर लोगों तैं मिन मिन गौं गौं जाणा च  अर खोलू खोलू एक हेका सी छ्वीं लगाणा च  किक्रेट खेलणा च अर शाशन प्रशासन की बात तैं मजाक मां लेणा च अर थी लोग अपणी जान का दुश्मन तो छैंच।पर तै गौंका भी दुश्मन च जैं माटी मां यी बडा ह्वेन। पर कुछ लोग भारी अमात होंदा सी कैकी नी सुणदा अर तोंकी या भारी जिद  कै मवासी घाम लगे  जांदी। अर सोचा या बीमारी हमारा गौं मां पोंछिगी तो कथा नुकसान होलू जा टेम पर मुंडारे की दवै नी मिलदी त कोरोना जनी बीमारी  ओली त क्या  हाल होला। जनि शासन प्रशासन बोनू च तनि करियाला




 प्रदेश के भीतर जो लोग एक जिले से दूसरे जिले में जाना चाहते हैं, वे लोग 31 मार्च को सुबह 7 बजे से सांय 8 बजे तक जा सकेंगे। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने यह जानकारी देते हुए बताया कि केवल मंगलवार 31 मार्च के लिए ही यह अनुमति होगी। एक दिन का यह विंडो इसलिए दिया जा रहा है क्योंकि जगह-जगह से ऐसी बातें आ रही थी कि बहुत से लोग अपने काम से आए हुए थे और लॉकडाऊन के कारण अपने घर से बाहर फंसे हैं।  बसों व टैक्सियों को सेनेटाइज करवाया जाना होगा।  इसमें सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन किया जाना होगा।

       देखिए वीडियो सीएम रावत का ऐलान


         मुख्यमंत्री ने कहा कि सुबह 7 से दोपहर 1 बजे तक आवश्यक वस्तुओं की दुकानों को खोलने की व्यवस्था का अच्छा रेस्पोंस मिला है। इससे लोगों में घबराहट खत्म हुई है, भीङ भी नही हो रही। लोग भी अब समझने लगे हैं। इसलिए इसी व्यवस्था को जारी रखा जाएगा।
         मुख्यमंत्री ने बताया कि दिल्ली में जो उत्तराखंडवासी फंस गए हैं उनके लिए उत्तराखंड सदन ओपन कर दिया गया है। वहां उनके भोजन, मेडिकल आदि व्यवस्था है। इसी प्रकार मुम्बई में भी उत्तराखंड भवन को लॉकडाऊन में फंसे उत्तराखंड के लोगों के लिए ओपन किया गया है।
         मुख्यमंत्री ने कहा कि हम दो तीन दिन में 500 चिकित्सकों की भर्ती करने जा रहे हैं। इससे हमारे यहाँ चिकित्सक पर्याप्त संख्या में हो जाएंगे।
         मुख्यमंत्री ने बताया कि पेंशनरों के लिए जीवन प्रमाण पत्र और वाहन चालकों के लिए ड्राइविंग लाइसेंस नवीनीकरण के लिए एक माह की छूट दी गई है।




 उत्तराखंड हरिद्वार और पिथौरागढ़ में जल्द मेडिकल कॉलेज की स्वीकृति प्रदान किए जाने के लिए मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन का आभार व्यक्त किया है। हरिद्वार और पिथौरागढ़ में प्रत्येक मेडिकल कॉलेज की स्थापना के लिए स्वीकृत लागत ₹325-325 करोड़ है। 
सेंट्रल स्पोंसर्ड स्किम के अंतर्गत  इन मेडिकल कॉलेजों की स्थापना पर आने वाले खर्च का 10 प्रतिशत राज्य सरकार द्वारा तथा 90 प्रतिशत खर्च केंद्र द्वारा वहन किया जाएगा।

फाइल फोटो-युवा कवि आयुष सेमवाल , रूद्रप्रयाग


मत घूमो बाहर  तुमसे मिलने कोरोना आजाएगा. 
करके दोस्ती तुमसे वह तुम्हारे घर चला जाएगा.
 मत घूमो बाहर तुमसे मिलने कोरोना आजाएगा.

 नहीं इसकी कोई दवाई चाइना ने यह बीमारी बनाई. 
आदेशों का पालन करो सरकार ने अच्छी फील्डिंग  बिछाई.
 मत घूमो बाहर  तुमसे मिलने कोरोना आ जाएगा.

 सरकार शासन प्रशासन लड़ने को है इससे तैयार.
 घर में रहकर आप दो घर वालों को प्यार दुलार.
 मत घूमो बाहर तुमसे मिलने कोरोना आ जाएगा.

 कुछ समय के लिए अपनी आदतों को बदलना पड़ेगा.
 तभी तो कोरोना को भारत की ओर से थप्पड़ पड़ेगा.
 मत घूमो बहार  तुमसे मिलने कोरोना आ जाएगा.

 बिन आपके सरकार कैसे इस बीमारी के थप्पड़ जड़ेगी. 
 दिल से दो साथ यारों इसमें तो आपकी जरूरत पड़ेगी.
 मत घूमो बाहार  तुमसे मिलने कोरोना आ जाएगा.

 सबसे पहले हम करेंगे कोरोना साफ ये हमें दिखलाना है.
 हम हैं विश्वगुरु पूरी दुनिया को हमें यह बताना है.
 मत घूमो बाहर  तुमसे मिलने कोरोना आ जाएगा..
आपका अपना 



  




देहरादून- उत्तराखंड में एक और कोरोना वायरस का पॉजिटिव मामला आया सामने।

21 वर्षीय युवक में पाया गया कोरोनावायरस पॉजिटिव।
18 मार्च को दुबई से लौटा था युवक।
कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए महंत इंद्रेश अस्पताल में हुआ था युवक भर्ती।
25 मार्च को दून मेडिकल अस्पताल में भेजा गया था युवक का सैंपल।
आज रिपोर्ट में युवक का कोरोनावायरस रिपोर्ट आई पॉजिटिव।




आवश्यक वस्तुओं की दुकानें कल 28 मार्च को भी सुबह 7 से दोपहर एक बजे तक खुली रहेंगी। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने यह जानकारी देते हुए बताया कि आज पहले की अपेक्षा भीङभाङ कम रही है। इसलिए  आज की यह व्यवस्था आगे भी जारी रहेगी। यह निर्णय इसलिए लिया गया था ताकि कोरोना से निबटने के लिए ज़रूरी सोशल डिस्टनेसिंग का पूर्ण रूप से अनुपालन कराने के लिए आम जनता को ख़रीदारी के उद्देश्य से पर्याप्त समय मिल जाय और आवश्यक वस्तुओं की दुकानों में एक साथ भीड़ न एकत्र होने पाए। कल भी चौपहिया वाहनों पर रोक रहेगी।
            फेसबुक लाईव द्वारा अपने संदेश में मुख्यमंत्री ने बताया कि जिन तीन आईएफएस अधिकारियों का कोरोना पाजिटिव होने पर ईलाज चल रहा था, उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई है और वे अब ठीक होने की स्थिति में आ गए हैं। मुख्यमंत्री ने उनके ईलाज में जुटे चिकित्सकों व अन्य स्वास्थ्यकर्मियों को बधाई देते हुए कहा कि यह हमारे चिकित्सकों की सक्षमता को बताता है।
          मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में कोरोना के खिलाफ बङी लङाई लङी जा रही है। इसमें हम जरूर जीतेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस व प्रशासन के लोग फार्मा इंडस्ट्री में काम करने वाले लोगों को न रुकें, हो सके तो उनको पहुंचाने की व्यवस्था करें।
          मुख्यमंत्री ने कहा कि बङी संख्या में सामाजिक, धार्मिक संस्थाएं और व्यक्तिगत तौर पर भी लोग आगे आए हैं और सहयोग के लिए स्वयं को प्रस्तुत किया है। हम इनके बहुत आभारी हैं।  मुख्यमंत्री राहत कोष में सहायता की इच्छा भी बहुत से लोगों ने व्यक्त की है। कइयों ने बङी राशि भी दी है। हम उनके भी आभारी हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना से निपटने के लिए यदि किसी के सुझाव हों तो हम उसका भी स्वागत करते हैं। प्राप्त सुझावों पर सरकार और शासन द्वारा विचार किया जाता है और उपयुक्त लगने पर क्रियान्वित भी किया जाता है।



कोरोना वायरस ( COVID-19) की रोकथाम, प्रभावी नियंत्रण एवं अनुश्रवण हेतु राज्य के मंत्रीगणों एवं राज्यमंत्रियों को उत्तराखण्ड के जनपदों का प्रभारी नियुक्त किया गया है। इस क्रम में कैबिनेट मंत्री श्री सतपाल महाराज को हरिद्वार, श्री सुबोध उनियाल को टिहरी व उत्तरकाशी, डॉ हरक सिंह रावत को पौड़ी, श्री अरविन्द पाण्डेय को चम्पावत व पिथौरागढ़, श्री यशपाल आर्य को अल्मोड़ा व नैनीताल एवं श्री मदन कौशिक को देहरादून व उधमसिंह नगर, राज्यमंत्री डॉ धनसिंह रावत को रुद्रप्रयाग व चमोली एवं श्रीमती रेखा आर्या को बागेश्वर का प्रभारी नियुक्त किया गया है।



फाइल फोटो -त्रिवेन्द्र सिंह रावत



मुख्यमंत्री  त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कोरोना वायरस के दृष्टिगत दिनांक 14 अप्रैल, 2020 तक हुए लॉक डाउन के कारण दिल्ली में फंसे उत्तराखण्ड के व्यक्तियों  के भोजन, रहने व उनके गंतव्य तक पहुंचने के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष से ₹ 50 लाख स्वीकृत किए हैं। 


मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखंड राज्य के प्रत्येक व्यक्ति के रहने, खाने एवं उनको उनके गंतव्य तक पहुंचाना राज्य सरकार की शीर्ष प्राथमिकता है। इस संबंध मे आदेश भी जारी कर दिए गए हैं।

कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते मामलों की वजह से देशभर में बीते बुधवार से लॉकडाउन लागू है। 


ऐसे में उन लोगों को घरों से बाहर निकलने की इजाजत है, जिन्हें जरूरी सेवाओं के अंतर्गत कुछ काम हो। अब लॉकडाउन के बीच एक अहम फैसला लिया गया है। कल (28 मार्च) से रामायण का एक बार फिर से प्रसारण किया जाएगा।

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने ट्वीट करके कहा, ' जनता की मांग पर कल शनिवार 28 मार्च से 'रामायण' का प्रसारण पुनः दूरदर्शन के नेशनल चैनल पर शुरू होगा।  पहला एपिसोड सुबह 9.00 बजे और दूसरा एपिसोड रात 9.00 बजे होगा।' 

बता दें कि 21 दिनों के लॉकडाउन की वजह से लगातार रामायण के दोबारा प्रसारण की मांग उठाई जाती रही थी। पिछले कुछ दिनों में सोशल मीडिया पर दर्शक लगातार रामायण को एक बार फिर से दूरदर्शन पर प्रसारित करने की मांग कर रहे थे।

कर्मयोगी योगी आदित्य नाथ के पहाड़ के प्रति समर्पण ने दिल्ली लॉकडाउन में फंसे उत्तराखंड के लोगों को लौटाया उनके गाँव 





  • मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपने फेसबुक पर एक पोस्ट शेयर की थी कि दिल्ली में फंसे युवकों को जल्दी वह अपने गांव लोट पायेंगे
  • हमारे पोर्टल ने खबर को सबसे पहले प्राथमिकता से प्रसारित किया गया
  • सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हुई खबर
  • खबर के बाद शासन प्रशासन ने फंसे युवकों निकालने के लिए तेज करदी
  • मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत व यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सूझबूझ से अपने गांव लोटे युवक
  • 109युवको को मेडिकल चैकअप के बाद बस के द्वारा उनके गांव पहुंचाया गया

आज देश कोरोना वायरस के चलते बहुत बड़े संकट से गुजर रहा है। जिसके चलते देश भर में लॉकडाउन कर दिया गया है ।
जिसके चलते देश भर में जगह-जगह लोग फंसे हुए  हैं। कोरोना वायरस संक्रमण से निपटने के लिए रेल,हवाई और बस सेवाओं को बंद कर दिया गया है। इस कारण लोग अपने गंतव्य तक नहीं पहुंच पा रहे है। 



प्रसारित खबर का स्क्रीन शॉट

इसी के चलते देश के तमाम दूसरे राज्यों से उत्तराखंड लौट रहे उत्तराखंड के कई लोग दिल्ली में फंसे थे। जिनमें से कई लोगों को मंगलवार को उत्तराखंड सरकार,दिल्ली सरकार और दिल्ली में सामाजिक पटल पर सेवा दे रहे कई सामाजिक संगठनों के अथक प्रयासों से दो बसों द्वारा उत्तराखंड रवाना किया गया था। इस कार्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई समाज सेवी विनोद बछेती जी ने,लेकिन इसके बावजूद भी दिल्ली के गाजीपुर स्थित रैन बसेरा में कई उत्तराखंड के लोग फंसे हुए थे। 
ऐसे समय इन लोगों के लिए पहाड़ पुत्र अजय सिंह बिष्ट यानि कर्मयोगी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ मसीहा बनकर प्रकट हुए। 




पिछले एक सप्ताह दिल्ली में फंसे इन उत्तराखंडी  लोगों को इनके घरों तक पहुंचाने के लिए अपने तमाम सहयोगियों के साथ प्रयासरत समाज सेवी विनोद बछेती ने बताया कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्य नाथ जी को जैसे ही सूचना मिली की देश भर में लॉकडाउन के चलते दिल्ली में उत्तराखंड के कुछ लोग पिछले कई दिनों से फंसे है तो श्री योगी जी ने तुरंत गाजियाबाद के एस एस पी कलानिधि नैथानी से फोन पर बात कर इन लोगों को जल्द से जल्द इनके गांवों तक पहुंचाने की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। 
जिसके बाद एस एस पी कलानिधि नैथानी गाजियाबाद के डीएम और सीएमओ पूरी टीम के साथ दिल्ली के गाजीपुर स्थित रैन बसेरा में पहुँचे। 





श्री नैथानी हमको माननीय योगी आदित्य नाथ जी के निर्देश के बारे बताया की माननीय मुख्यमंत्री जी का आदेश है कि इन लोगों को जल्द से जल्द सुरक्षित इनके घरों तक पहुँचाया जाया। एस एस पी कलानिधि नैथानी जो कि खुद उत्तराखंड के रहने वाले हैं। उन्होंने वहाँ मौजूद सभी उत्तराखंड वासियों को भरोसा दिलाया की आप किसी भी तरह से फ्रिक न करें। हम जल्द से जल्द अपने पहाड़ वासियों को इनके गांवों तक पहुंचाने की व्यवस्था कर रहे हैं। जिसके बाद एस एस पी नैथानी जी के साथ पहुँची डाक्टरों की टीम ने इन लोगों का चैकप किया  और इसके बाद इन सभी लोगों को उत्तर प्रदेश परिवहन निगम की चार बसों द्वारा रामनगर,हल्द्वानी,पिथौरागढ़ और देहरादून के लिए रवाना कर दिया गया। 
यह निश्चित तौर के पहाड़ के उस कर्मयोगी बेटे का अपने पहाड़ के प्रति अथा प्रेम को दर्शात है। जो भले ही पहाड़ की माटी से उपज कर कहीं दूर रह रहा हो, लेकिन अपने पहाड़ पर आने वाली हर मुसीबत में पहाड़ के साथ खड़ा हो जाता है। 
हम पूरे उत्तराखंड समाज की तरफ से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्य जी का कोटि-कोटि आभार व्यक्त करते हैं कि आप के आशीर्वाद और सहयोग से पिछले कई दिनों से दिल्ली में फंसे उत्तराखंड के लोगों हंसी के साथ अपने घरों को लौटे है। 
हम आभार व्यक्त करते हैं गाजियाबाद के एस एस पी कलानिधि नैथानी जी,डीएम साहब और सीएमओ और उनकी पूरी टीम का कि आपने तत्काल प्रभाव से माननीय मुख्यमंत्री जी के आदेश का पालन करते हुए। पहाड़ के लोगों को उनके घरों तक पहुंचाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया। 



हम उत्तराखंड सरकार,दिल्ली सरकार और दिल्ली में कार्यरत सभी सामाजिक संगठनों और मीडिया का भी आभार प्रकट करते है आप सब रात-दिन हमारे साथ इस प्रयास में लगे रहे कि जल्द से जल्द इन लोगों को गाँव तक पहुंचाया जाए। 
साथ ही हम आप सभी से अपील  करना चाहेंगे कि । हम सब माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी और सभी राज्य सरकारों द्वारा दिए गए  दिशा निर्देशों का पालन करें और कोरोना वायरस को भारत से भगाने के लिए सरकार का सहयोग करें।

मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने देर सांय वीडियो कांफ्रेंसिग द्वारा प्रदेश में कोरोना वायरस की अद्यतन स्थिति और इसके संक्रमण को कम करने के लिए की गई तैयारियों की विस्तृत समीक्षा की। 





मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि गेहूँ की आटा मिलें चलती रहें, ये सुनिश्चित कर लिया जाए। पंजीकृत और अन्य श्रमिकों व अन्य ज़रूरतमंदों को तत्काल सहायता उपलब्ध कराई जाए। आवश्यक सावधानियां बरतते हुए फार्मा इंडस्ट्री चलती रहें। जो लोग बाहर से आ रहे हैं, उनको होम क्वारेंटाईन कराया जाए। कोरोना संदिग्ध लोगों जिनकी रिपोर्ट लम्बित है, को सख्ती के साथ घर पर क्वारेंटाईन किया जाए। इस पर लगातार चैकिंग भी की जाए। जिलाधिकारी इनको क्रास चेक करा लें। जिलों में होम डिलीवरी व्यवस्था को मजबूत करें। सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन सुनिश्चित किया जाए। मुख्यमंत्री ने अभी तक की स्थिति पर संतोष व्यक्त करते हुए कहा कि इसी प्रकार आपसी समन्वय से आगे भी काम करना है। कोई  छोटी से छोटी कोताही भी नहीं होनी चाहिए।


मुख्यमंत्री ने कहा कि आवश्यकता होने पर देहरादून व हल्द्वानी में 500 बेड के प्री फैब कोरोना अस्पताल बनाए जा सकते हैं, इसके लिए संबंधित जिलाधिकारी 5 एकङ भूमि चयनित कर लें। जिन भी सीएमओ व अन्य अधिकारियों के नम्बर सार्वजनिक कर रहे हैं उन्हें सहायक भी दे दे। छोटी आटा चक्कियो को चलने दे। थोक सप्लाई को न रोके। दुकानों पर रेट लिस्ट अवश्य लगें। फूड प्रोसेसिंग से संबंधित फेक्ट्री चलती रहें। कल मार्केट आवश्यक वस्तुओं के लिए सुबह 7 से दोपहर 1 बजे तक खुले रहेंगे। फल सब्जी की ठेलिया चल सकती हैं। चार पहिया वाहन पूरी तरह बंद रहेंगे। दोपहिया वाहन सुबह 7 से दोपहर 1 बजे तक चलेंगे परंतु इनपर एक ही व्यक्ति बैठेगा। 

बैठक में सचिव श्री नितेश झा ने बताया कि अभी उत्तराखंड कोरोना के फेज एक में ही है। यहां पाए गए पाजिटिव केस बाहर से आए हुए हैं। स्थानीय संक्रमण नहीं हुआ है। सोशल डिस्टेंसिंग रखने में सफल रहे तो राज्य में कोरोना मामलों को रोकने में अवश्य कामयाब रहेंगे। आयुष चिकित्सकों की सेवाएं भी ली जाएंगी। जिला चिकित्सालयों में कोरोना स्पेसिफिक अस्पताल स्थापित कर रहे हैं। आवश्यक दवाओं और उपकरणों की व्यवस्था की गई है।

सचिन श्री सुशील कुमार ने बताया कि खाद्यान्न पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। 

बैठक में मुख्य सचिव श्री उत्पल कुमार सिंह, डीजीपी श्री अनिल कुमार रतूङी, सचिव अमित नेगी अन्य शासन के वरिष्ठ अधिकारी, जिलाधिकारी और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

टिहरी. जिला पंचायत अध्यक्षा श्रीमती सोना सजवाण जी ने टिहरी गढ़वाल में कोरोना वायरस संक्रमण के प्रभाव को रोकने के लिए 10 लाख रुपए की धनराशि दी है. जिला पंचायत अध्यक्षा श्रीमती सोना सजवाण ने 10 लाख की यह राशि समस्त टिहरी जिले के लिए कोरोना की रोकथाम, जांच आदि कार्यों के लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी टिहरी को उपलब्ध कराई है.

सोना सजवाण,जिला पंचायत अध्यक्ष, टिहरी


जिले में कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए जिला पंचायत अध्यक्षा श्रीमती सोनादेवी सजवाण व सदस्य श्री रघुवीर सजवाण जिला प्रशासन के साथ निरंतर प्रयास में लगे हुए हैं. माननीय जिला पंचायत अध्यक्षा ने कहा कि टिहरी क्षेत्र में बड़ी संख्या में लोग इस महामारी के संकट की घड़ी में अपने गांव लौट रहे हैं और ऐसे में यहां स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाने और संक्रमण को रोकने के हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं.

श्रीमती सजवाण ने कहा कि जिले के नागरिकों ने सावधानी बरती तो इस संक्रमण की चपेट में आने से बचा जा सकता है. जिला पंचायत अध्यक्षा ने कहा कि जिलेवासियों को माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की सलाह को ध्यान रखना चाहिए. साथ ही कहा कि राज्य के मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र रावत जी द्वारा राज्यवासियों को समय समय पर इस संक्रमण से बचने के लिए जो निर्देश दिए जा रहें हैं उसका कड़ाई से पालन करें. श्रीमती सोनादेवी सजवाण ने कहा कि 21 दिन के लाकडाउन की स्थिति में किसी भी नागरिक को घबराने की जरूरत नहीं है. जिले में राशन आदि की कोई दिक्कत नहीं होगी, इसके लिए जिला पंचायत अध्यक्षा राज्य सरकार व जिला प्रशासन से सतत संपर्क में हैं.

समाज सेवी विनोद बछेती के अथक प्रयासों से दिल्ली लॉकडाउन में फंसे उत्तराखंड के नौजवान लौटे अपने गाँव की ओर

आज देश कोरोना वायरस के चलते बहुत बड़े संकट से गुजर रहा है। जिसके चलते देश भर में लॉकडाउन कर दिया गया। साथ ही दिल्ली में तत्काल प्रभाव से कर्फ्यू लगा दिया गया है। 
जिसके चलते देश भर में जगह-जगह लोग रुक गए हैं। कोरोना वायरस संक्रमण से निपटने के लिए रेल,हवाई और बस सेवाओं को बंद कर दिया गया है। इस के चलते कई यात्री अपने गंतव्य तक नहीं पहुंच पा रहे है। 

इसी के चलते देश के तमाम दूसरे राज्यों से उत्तराखंड लौट रहे उत्तराखंड के कई लोग सोमवार शाम को दिल्ली पहुंचे। लेकिन लॉकडाउन और दिल्ली में लगे कर्फ्यू के चलते आगे नहीं जा पाए। ऐसे में इन लोगों के सामने समस्या यह आई की इतनी बड़ी संख्या में यह लोग अब कहाँ जाए। 
ऐसे समय समाज सेवी एवं डीपीएमआई के चेयरमैन विनोद बछेती इन लोगों के लिए उम्मीद की किरण बनकर पहुँचे। 
विनोद बछेती जी बताते है कि उन्हें उत्तराखंड के कई लोगों से सूचना मिली की देश के तमाम दूसरे राज्यों में छोटी-छोटी नौकरी करने वाले उत्तराखंड के कई लोग सोमवार को दिल्ली के आनंद विहार बस अड्डे पर पहुँचे हैं। लेकिन यहाँ से आगे जाने के लिए इनके पास कोई साधन नहीं है। क्योंकि कोरोना वायरस से लड़ने के लिए देश भर में लॉकडाउन कर दिया गया है। ऐसे में सवाल यह था कि अब इन लोगों को कैसे इनके घरों तक भेजा जाए। 
विनोद जी बताते है सबसे पहले तो हम सब ने मिलकर इन लोगों के रात में रुकने की व्यवस्था की और पहाड़ के इन नौजवानों को हमने दिल्ली के गाजीपुर में स्थिति रैन बसेरा में ठहराया था। साथ ही उत्तराखंड सरकार से इन्हें जल्द से जल्द अपने-अपने क्षेत्रों तक पहुंचाने की अपील की इसका सुखद परिणाम यह हुआ की उत्तराखंड सरकार ने इन नौजवानों को अपने गांव तक पहुंचाने के लिए मंगलवार को दो बसों की व्यवस्था की  है और यह नौजवान अब अपने-अपने घरों की ओर प्रस्थान कर चुके हैं। 
इस के लिए मैं माननीय मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत जी
आदरणीय अजय टम्टा जी,उनके सहयोगी पंकज जोशी जी,समाजसेवी नरेंद्र लटवाल जी, पटपड़गंज के एस एच ओ आदरणीय अरूण कुमार चौधरी जी और एस डी एम साहब सैनी जी का कोटि-कोटि आभार व्यक्त करता हूँ कि आपने पहाड़ के इन नौजवानों को इनके गांवों तक पहुंचाने में हमें सहयोग किया। 
साथ ही मैं अपील भी करना चाहूँगा की हम सब माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी और सभी राज्य सरकारों द्वारा दिए गए  दिशा निर्देशों का पालन करें और कोरोना वायरस को भारत से भगाने के लिए सरकार का सहयोग करें।

आह्वान गीत -कठिन परीक्षा का क्षण 
-
फाइल फोटो-कवि हलधर


कठिन परीक्षा का क्षण हिंदुस्तान का ।
ख़तरे  में  जीवन  आया  इंसान  का ।।

तुच्छ नहीं यह बात बड़ी है ,घर के बाहर मौत खड़ी है ।
लड़ना होगा युद्ध सभी को , कोरोना  से जंग छिड़ी है ।

निकला आज जनाजा सकल जहान का ।।
कठिन  परीक्षा  का  क्षण  हिंदुस्तान  का ।।1

बात हमारी मानो भाई ,बंद करो सब आवा जाई ।
प्राण गवा दोगे भगदड़ में ,रोयेँ मैया  चाची  ताई ।

हाल बुरा  है  इटली, रोम  ,ईरान का ।।
कठिन परीक्षा का क्षण हिंदुस्तान का ।।2

उनकी भी समझें मजबूरी ,जिनपर काम नहीं मजदूरी ।
मदद  सभी  को  करनी  होगी , तभी लड़ाई होगी पूरी ।

समझो  यही  इशारा है  भगवान का ।।
कठिन परीक्षा का क्षण हिंदुस्तान का ।।3

कुछ लोगों का मन मैला है , भरा हुआ जिनका थैला है ।
खास जरूरत की चीजों पर ,बिना बात का भ्रम फैला है ।

मान रखो कुछ रोग मुक्त अभियान का ।।
कठिन परीक्षा  का  क्षण हिंदुस्तान का ।।4

मौत मुहाने आये सब हैं ,  ये सब मानव के करतब हैं ।
कीट पतंगे पक्षी खाये , गायब  चिड़ियों के कलरब हैं ।

काम किया क्यों हमने खुद शैतान का ।।
कठिन परीक्षा  का क्षण हिंदुस्तान का ।।5

नेता जी हों या व्यापारी , हम सब की यह जिम्मेदारी ।
मजबूरों की अंतड़ियों तक ,पहुंचे दाल भात तरकारी ।

हलधर" मान बढ़ाओ देश महान का ।।
कठिन परीक्षा का क्षण हिंदुस्तान का ।।6

हलधर -9897346173


  • मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने लिया संज्ञान
  • दिल्ली मुंबई अन्य जगहों से घर लोट रहे युवा
  • लॉक डाउन के चलते भारी दिक्कतों का कर रहे सामना
  • अपने फेसबुक पर नंबर किया जारी
  • होटलियर भाईयों के लिए मिली राहत


लॉक डाउन के   चलते  की हमारे राज्य के कई युवा दिल्ली के गाजीपुर रैन बसेरे में या अन्यत्र जगहों पर फंसे हुए हैं, उन्हें घर पहुंचाने के प्रयास किये जा रहे हैं। करीब 200 लोगों को कल उनके घर पहुंचाया गया है। इस स्थिति में प्रवासी उत्तराखंडियों की दिक्कतों को सुनने, सुलझाने व अन्य राज्यों से कॉर्डिनेट करने के लिए श्री आलोक पांडे (फ़ोन न. 6398500571) को अधिकृत किया गया है।


ये कोरोना के खिलाफ  हम सभी की जंग है इसे मिलकर लड़ना है। हो सकता है हमें कुछ कष्ट उठाना पड़े, लेकिन संकट की घड़ी में हमें धैर्य रखना चाहिए और सभी सरकारी दिशानिर्देशों व डॉक्टरों की सलाह का पालन करना चाहिए। जो भी युवा प्रदेश में आ रहे हैं उनकी मेडिकल जांच होगी और सभी सावधानियां बरतनी होगी।




उत्तराखंड के लिए एक खुशखबरी है। उत्तराखंड में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 4 से घटकर 3 हो गई है। देहरादून में भर्ती दो आईएसएस अफसरों में से एक अफसर की पहली रिपोर्ट नेगेटिव आई है।

फाइल फोटो-दून चिकित्सालय

  •    यह सुकून भरी खबर तब है, जबकि देश में और जगह कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है।


  •  अस्पताल प्रशासन के एक अधिकारी ने बताया कि इन आईएफएस अफसर ने डॉक्टरों के निर्देशों का सही से पालन किया, दवाई ठीक टाइम पर खाई और साफ सफाई का अधिक ध्यान रखा गया। यही कारण है कि इनके स्वास्थ्य में तेजी से सुधार आया और अब इनकी एक जांच मे कोरोना संक्रमण नेगेटिव आ गया है। दो जांच अभी बाकी है।
  •  गौरतलब है कि इन मरीजों की देखभाल श्वास एवं छाती रोग विशेषज्ञ डॉ अनुराग अग्रवाल तथा डॉ रणजीत सिंह कर रहे हैं।
  • कीइस राहत भरी खबर से कोरोना मरीजों की देखभाल में जुटे डॉक्टरों और नर्सों में भी खुशी की लहर है।
  • अ आई एफ एस अफसर को कुछ दिन और सघन देखभाल में रखा जाएगा।


  • आईठीक होने के बाद यह अफसर लोगों से मिल सकते है लेकिन फिर भी इन्हें घर में लाॅकडाउन मे रहना पड़ेगा, क्योंकि खुले में जाने से इन्हें दोबारा संक्रमण हो सकता है।कृपया यह न सोचिए की कोरोना हो भी गया


फाइल फोटो-पीएम नरेंद्र मोदी

  • वायरस को लेकर मंगलवार को एक बार फिर देश को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज रात 12 बजे से पूरे देश में पूरी तरह से लॉकडाउन होने जा रहा है। मेरी आपसे प्रार्थना है कि आप इस समय देश में जहां हैं वहीं रहे। देश में यह लॉकडाउन 21 दिन का होगा मतलब तीन सप्ताह का होगा। आने वाले 21 दिन हर नागरिक के लिए हर परिवार के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है।
  • पीएम मोदी ने कहा कि स्वास्थ्य एक्सपर्ट की माने तो कम से कम 21 दिन का समय बहुत अहम है। अगर ये 21 दिन नहीं संभले तो देश और आपका परिवार 21 साल पीछे चला जाएगा। अगर ये 21 दिन नहीं संभला तो कई परिवार हमेशा हमेशा के लिए तबाह हो जाएंगे। इसलिए बाहर निकलना क्या होता है ये 21 दिनों के लिए भूल जाइए। अपने घर में ही रहें। साथियों आज ये फैसले ने देश व्यापी लॉकडाउन ने आपके घर के दरवाजे पर एक लक्ष्मण रेखा खींच दी है। याद रखना आपका सिर्फ एक कदम कोरोना जैसी महामारी को घर ले आ सकता है।







  • कोरोना से तभी बचा जा सकता है जब घर की लक्ष्ण रेखा न लांघी जाए। हमे इस महामारी के वायरस का संक्रमण रोकना है। हमें इसके चेन को तोड़ना है। ये समय हमारे संकल्प को बार बार मजबूत करने का है। ये समय कदम-कदम पर संयम बरतने का है। आपको याद रखना है जान है तो जहान है।  साथियों ये धैर्य अनुशासन की घड़ी है। लॉकडाउन के लिए अपना वचन निभाना है।






 मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता में राज्य कैबिनेट की महत्वपूर्ण बैठक हुई जिसमें कोरोना से बचाव के संबंध में विशेषकर चर्चा की गई बैठक में
फाइल फोटो- कैबिनेट बैठक 
सभी कैबिनेट मंत्री उपस्थित रहे.....वहीं शासकीय प्रवक्ता मदन कौशिक ने पत्रकारों से बातचीत में बताया कि कोरोना वाइरस से बचाव के संबंध में विशेष चर्चा की गई साथ ही कई निर्णय भी कैबिनेट में लिये गये 




                   

  •  सरकारी 4 मेडिकल कालेज देहरादून,हल्द्वानी,श्रीनगर ,अल्मोडा को मुख्य रूप से कोरोनो उपचार के लिये रखा जाएगा। शेष विभागों को अन्य हॉस्पिटल में शिफ्ट किया जाएगा।
  • कोरोना कोविड19 के टेस्ट के लिये दो अन्य सेंटर आई आई पी इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ पेट्रोलियम और एम्स के लिये अनुमोदन प्रदान किया गया।
  • श्रीनगर ,हल्द्वानी और दून मेडिकल कालेज के विभागाध्यक्ष को आगामी 3 माह के लिये इंटरव्यू द्वारा डॉक्टर की भर्ती पदों के सापेक्ष करने के अधिकार दिया गया। तथा 3 माह के DM चिकित्सालयो में अपने स्तर से भी  भर्ती कर सकते है।


4-पूर्व में 555 अस्थाई पदों के सापेक्ष विज्ञापित 314 पदों का इंटरव्यू चल रहा है। शेष पदों पर भर्ती के लिये विज्ञापन निकालने की जरूरत नही होगी।
5-सृजित 958 रिक्त पदों के सापेक्ष 479 सर्जन को 11 माह के रखने की अनुमति।
6- उधमसिंह नगर,हरिद्वार ,नैनीताल और देहरादून 4 जनपदों के DM को 3 करोड़ रुपये और अन्य DM को 2 करोड़ रुपये असंगठित मजदूर, आवश्यक मन्द जनता की तात्कालिक मदद हेतु फंड दिया जाएगा।
7-गेंहू की खरीद मूल्य 1925 प्रति क्विंटल पर 20 रुपये प्रति क्विंटल वृद्धि की जाएगी

MKRdezign

نموذج الاتصال

الاسم

بريد إلكتروني *

رسالة *

يتم التشغيل بواسطة Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget