प्रवासियों के लिए बड़ी खुश खबरी इस दिन से चलेंगी ट्रेनें इन राज्यों के लिए-देखिए पूरी खबर

प्रवासियों के लिए जल्द चलेगी स्पेशल ट्रेनें




  • त्रिवेन्द्र सिंह रावत सरकार की मेहनत रंग लाई
  • लोटे हुए प्रवासी कर रहे हैं सीएम रावत का धन्यवाद
  • अब हर प्रवासी होगा अपने द्वार प्रवासियों के साथ खड़ी है रावत सरकार
  • कृपया धैर्य संयम बनाकर रखें आप सभ होंगे अपने द्वार
  • 10जल्द चलेंगी स्पेशल ट्रेनें




देहरादून-चार दिन में आएंगे 7200 लोग
अब तक 18 हजार प्रवासियों की हो चुकी है सकुशल घरवापसी
अन्य राज्यों में फंसे प्रवासियों को उत्तराखंड लाने के लिए  जल्द मई से स्पेशल ट्रेनें चलेंगी।
आधा दर्जन स्पेशल ट्रेन से 7200 प्रवासियों को उत्तराखंड लाने की है योजना है।
वहीं त्रिवेंद्र सरकार ने हरियाणा से 8700 प्रवासियों को लाने के लिए ऑपरेशन गुरुग्राम तेज कर दिया है।
कल से यानी
रविवार से महाराष्ट्र, गुजरात, केरल और तेलंगाना में फंसे प्रवासियों को स्पेशल ट्रेन से उत्तराखंड लाने का अभियान भी शुरू हो जाएगा। त्रिवेंद्र सरकार ने स्पेशल ट्रेन से प्रवासियों को लाने का प्रस्ताव रेल मंत्रालय को भेज दिया है।
कल तक प्रवासियों की घरवापसी के लिए शुरू की गई वेबसाइट पर 1 लाख 75 हजार 880 प्रवासी पंजीकरण करा चुके थे।
वहीं, इनमें उत्तराखंड में फंसे 20 हजार लोगों ने अपने राज्यों में जाने के लिए पंजीकरण भी कराया है।
मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह के मुताबिक प्रवासियों को लाने के लिए अब तक चले अभियान में 18 हजार 156 प्रवासियों को हरियाणा, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, पंजाब, गुजरात, दिल्ली, चंडीगढ़ से लाया जा चुका है। सबसे अधिक प्रवासी हरियाणा राज्य से लौटे हैं। अगले तीन दिन में गुरुग्राम में फंसे 7200 और प्रवासियों को भी उत्तराखंड लाया जाएगा। बड़ी संख्या में बसें गुरुग्राम भेजने और प्रवासियों को लाने का सिलसिला जारी है। वहीं, फरीदकोट से 300, बिहार से 15, पश्चिमी बंगाल के सिलीगुड़ी से 39 प्रवासी भी बसों के माध्यम से ही उत्तराखंड लाए जाएंगे।

ये है ऑपरेशन गुरुग्राम
आठ मई को चमोली, देहरादून, नैनीताल, टिहरी व उत्तरकाशी 2281 लोग लाए गए।
आज यानी
नौ मई को बागेश्वर, पिथौरागढ़ और रुद्रप्रयाग, पौड़ी व यूएसनगर के 3715 प्रवासी उत्तराखंड पहुंचेंगे।
ऑपरेशन के पहले चरण में 2745 प्रवासियों को पहले ही लाया जा चुका है।

ये है अब तक की स्टेट्स रिपोर्ट
18156 प्रवासियों की सकुशल घरवापसी हुई
4080 प्रवासियों को राज्य से बाहर भेजा गया
1.76 लाख प्रवासियों ने कराया है पंजीकरण
7890 प्रवासी हरियाणा राज्य से लाए गए
4,701 प्रवासियों की वापसी चंडीगढ़ से हुई
2,237 प्रवासी उत्तरप्रदेश से लाए गए
2069 प्रवासी राजस्थान से राज्य में लाए गए
252 दिल्ली, 227 पंजाब, 197 गुजरात से लाए
78 प्रवासियों की वापसी अन्य राज्यों से हुई
45 हजार कॉल्स रिसीव की गईं सहायता केंद्र में
एक स्पेशल ट्रेन में आएंगे 1200 प्रवासी
तिथि        राज्य प्रस्थान               फंसे यात्री    आगमन
        केरल त्रिवेंद्रम            1857          हरिद्वार
          गुजरात अहमदाबाद   3024          हरिद्वार
           गुजरात सूरत            4055           हरिद्वार
           महाराष्ट्र पुणे            7927            हरिद्वार
             महाराष्ट्र पुणे          3025           काठगोदाम
          तेलंगाना हैदराबाद     2237            हरिद्वार

लॉकडाउन के दौरान अन्य राज्यों में फंसे प्रवासियों के लिए मुख्यमंत्री का अभियान ओम घर चलो ओम शुरू हो चुका है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि सभी फंसे प्रवासियों को उनके घर तक पहुंचाया जाएगा। गुरुग्राम से हजारों फंसे प्रवासियों को वापस उत्तराखंड लाया जा रहा है। गुरुग्राम से कुमाऊं क्षेत्र के सैकड़ों प्रवासियों को लेकर बसें उत्तराखंड के लिए रवाना हो चुकी हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस संकट की घड़ी में सभी धैर्य रखें। सरकार आपके साथ है। प्रदेश के परिवहन मंत्री यशपाल आर्य के प्रयासों की लोग सराहना कर रहे हैं।
सांभा-बोलता उत्तराखंड

टिप्पणी पोस्ट करें

5 टिप्पणियां