तो क्या अब रुद्रप्रयाग में ऑक्सीजन बनेगी-देखिए पूरी जानकारी




 उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग में शंकाराचार्य माधवाश्रम अस्पताल मे दो-तीन महीने में ऑक्सीजन प्लांट बनकर तैयार हो जाएगा। प्लांट के बनने से जहां केदारनाथ यात्रा में आने वाले जरूरतंद यात्रियों को ऑक्सीजन की तत्काल सुविधा मिलेगी। वहीं, जिला अस्पताल समेत अन्य केंद्रों में भी 24 घंटे पर्याप्त ऑक्सीजन उपलब्ध रहेगी, जिससे इमरजेंसी मामलों के उपचार में आसानी होगी। साथ ही बाहर से ऑक्सीजन सिलिंडर मंगाने की झंझट से भी पूरी तरह निजात मिल जाएगी।

जिला मुख्यालय रुद्रप्रयाग में स्थित शंकराचार्य माधवाश्रम अस्पताल को स्वास्थ्य विभाग द्वारा अधिगृहित किया जा चुका है। अब, यहां पर ऑक्सीजन प्लांट लगाने की तैयारी की जा रही है। विभाग द्वारा निर्माण कार्य के लिए ऑनलाइन टेंडर प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। एक माह में सभी औपचारिकताएं पूरी कर प्लांट का निर्माण कार्य शुरू कर दिया जाएगा। 50 लाख की लागत से बनने वाले ऑक्सीजन प्लांट से जिला अस्पताल समेत जनपद में संचालित सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को पर्याप्त ऑक्सीजन गैस सिलिंडर मिल सकेंगे। साथ ही मध्य हिमालय में 11750 फीट की ऊंचाई पर स्थित केदारनाथ धाम की यात्रा में सांस लेने में दिक्कत वाले यात्रियों के इलाज में भी मदद मिलेगी।

साथ ही आपको बता दें कि  ऑक्सीजन की कमी के कारण, बीते एक दशक में यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं में सांस लेने में दिक्कत और दिल का दौरा पड़ने से 250 से अधिक की मौत हो चुकी है। अधिकारियों के अनुसार, इस प्लांट के बनने से जनपद रुद्रप्रयाग में एक साथ दो सौ मरीजों को एक साथ ऑक्सीजन मुहैया कराई जा सकेगी।

बताया जा रहा है कि जिला मुख्यालय रुद्रप्रयाग में माधवाश्रम अस्पताल में बनने वाले ऑक्सीजन प्लांट में 20 से 56 क्यूबिक मीटर तक ऑक्सीजन का उत्पादन होगा। प्लॉट से प्रतिदिन मांग के अनुसार ही ऑक्सीजन सिलिंडर भरे जाएंगे, जिन्हें जिला अस्पताल, सीएचसी अगस्त्यमुनि व जखोली के लिए सप्लाई किया जाएगा। वहीं, केदारनाथ यात्रा के दौरान राजकीय एलोपैथिक अस्पताल गुप्तकाशी के साथ फाटा, सोनप्रयाग, गौरीकुंड समेत पड़ावों व धाम में संचालित एमआरपी को भेजा जाएगा। इस सुविधा से सांस के रोगियों, दुर्घटना में होने वाले घायलों, ऑपरेशन वाले मरीजों को लाभ मिलेगा।

स्वास्थ्य विभाग द्वारा जनपद में ऑक्सीजन प्लांट निर्माण के लिए ऑनलाइन टेंडर प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। सबकुछ ठीक रहा तो अगले दो-तीन माह में प्लांट बनकर तैयार हो जाएगा। इस प्लांट से स्थानीय अस्पतालों के साथ-साथ चमोली जनपद के अस्पतालों को भी ऑक्सीजन सिलिंडर सप्लाई किए जा सकेंगे।

ऑक्सीजन प्लांट से शुरूआती समय में 20 क्यूबिक मीटर ऑक्सीजन का उत्पादन होगा। इसे, मांग के अनुरूप बढ़ाया जा सकेगा। प्लांट में लगने वाले उपकरणों व अन्य संसाधनों के लिए जरूरी औपचारिकताएं पूरी की जा रही है।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां