अब हर प्रवासी होगा अपने द्वार-आप के साथ खड़ी है त्रिवेन्द्र रावत सरकार ,आज गुड़गांव से उत्तराखंड पहुंचे तीन हजार-बस अब आप भी रहें तैयार-देखिए पूरी ख़बर

फाइल फोटो गुड़गांव से लोटते प्रवासी

देहरादून:  लॉकडाउन के देश के अलग अलग राज्यों में फंसे उत्तराखंडियों को वापस लाने के लिए त्रिवेंद्र सरकार ने अभियान तेज कर दिया है। एसडीआरएफ और परिवहन विभाग के सहयोग से रोजोना हजारों प्रवासियों को प्रदेश में लाया जा रहा है। इसी कड़ी में आज गुड़गांव से प्रवासियों को लेकर 100 से ज्यादा बसें उत्तराखंड पहुंच रही हैं। आज शाम तक करीब 3000 प्रवासी उत्तराखंडी अपने घरों तक पहुंच जाएंगे।
          (वीडियो जरूर देखें )


गुड़गांव से उत्तराखंड रवाना होते प्रवासी

     (मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का धन्यवाद करते प्रवासी)

त्रिवेंद्र सरकार ने स्पष्ट किया है कि दूसरे प्रदेशों में फंसा जो भी उत्तराखंडी घर लौटना चाहता है उसे घऱ लाने के लिए पर्याप्त इंतजाम किए जा रहे हैं। लोगों को धैर्य रखने की जरूरत है। मंगलवार को भी चंडीगढ़, राजस्थान औऱ आसपास के इलाकों में फंसे साढ़े तीन हजार से ज्यादा लोग उत्तराखंड परिवहन निगम की बसों से अपने राज्य में ले थे।

इसी कड़ी में आज गुड़गांव से 3000 लोगों को लाया जा रहा है। शाम 5-6 बजे तक सभी बसें उत्तराखंड पहुंच जाएंगी। इन 3000 लोगों में से सबसे ज्यादा 1396 लोग अल्मोड़ा के रहने वाले हैं, पौड़ी के 718, चंपावत के 707, ऊधमसिंह नगर के 125 व हरिद्वार जनपद के 25 लोगों को घर वापस लाया जा रहा है। इस रेस्क्यू मिशन के बाद उन हजारों लोगों को को नई उम्मीद जगी है जिन्होंने घऱ वापसी के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराया है।

उत्तराखंड पुलिस ने जानकारी दी है कि राज्य सरकार बुधवार तक बाहरी राज्यों में फंसे 8300 लोगों को उत्तराखंड ला चुकी है। 3000 लोग आज पहुंच रहे हैं। धीरे धीरे अन्य राज्यों से भी समन्वय स्थापित करके वहां फंसे लोगों की वापसी की जाएगी। खास बात ये है कि जो भी यात्री वापस आ रहे हैं, उनके स्वास्थ्य का पूरा ख्याल रखा जा रहा है। एसडीआरएफ के जवान बसों में मौजूद हैं, स्वास्थ्य की प्रॉपर स्क्रीनिंग हो रही है।

टिप्पणी पोस्ट करें

1 टिप्पणियां