विख्यात लोकगायक स्वर्गीय हीरा सिंह राणा जी के पित्र भोज पर रखा गया भव्य बेबीनार कई जानी मानी हस्तियां रहेंगे उपस्थित -देखें पूरी खबर

पिछले एक पखवाड़े में ही उत्तराखंड की व्यथा-कथा को लोक साहित्य और गीतों के जरिये अपना सर्वस्व न्योछावर कर  देने वाले दो पुरोधाओं हीरा सिंह राणा और जीत सिंह नेगी के निधन से समूचा प्रदेश स्तब्ध है। गढ़वाली और कुमाऊंनी बोली के इन दो नायाब हीरों के चले जाने से दोनों बोलियों के एक युग का अंत हो गया है।




हीरा सिंह राणा जी को उनके ठेठ पहाड़ी बिम्बों-प्रतीकों वाले गीतों के लिए जाना जाता है। कुमाऊंनी बोली के लिए किए गए राणा जी के प्रयासों को याद करते हुए हमें पूर्ण विश्वास है कि उनकी साहित्यिक और सांस्कृतिक यात्रा हमारी नई पीढ़ी और समाज को भविष्य में भी प्रेरित करती रहेगी।

इसी कड़ी में स्वर्गीय राणा जी के पितृभोज यानी दिनांक 23 जून, 2020 को सांय 5.00 बजे टेलीकांफ्रेंसिंग के जरिये समाज के सक्षम राजनीतिक, सामाजिक और संस्कृतिकर्मी उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे।

टेलीकांफ्रेंसिंग में सर्वश्री हरीश रावत पूर्व मुख्यमंत्री उत्तराखंड, श्रद्धेय माता मंगला, अध्यक्ष-हंस फाउंडेशन, राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा, फिल्म अभिनेता और सांसद राज बब्बर के अतिरिक्त मनीष खंडूड़ी, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता, शौर्य डोभाल, इंडिया फाउंडेशन, तथा वरिष्ठ भाजपा नेता रामशरण नौटियाल उपस्थित रहेंगे।

लोक गायक नरेंद्र सिंह नेगी, पद्मम श्री प्रीतम भरतवाण , घनानंद, उपाध्यक्ष-उत्तराखंड संस्कृति, साहित्य कला परिषद भी टेलीकांफ्रेंसिंग के जरिये स्वर्गीय राणा जी को श्रद्धा सुमन अर्पित करेंगे।

बॉलीवुड के प्रसिद्ध गायक जुबिन नौटियाल, पवनदीप, अभिनेता हेमंत पांडे तथा अभिनेत्री उर्वशी रौतेला भी अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करेंगी। इस अवसर पर वरिष्ठ समाजसेवी और पूर्व भविष्यनिधि आयुक्त वीएन शर्मा, स्वर्गीय हीरा सिंह राणा की पत्नी श्रीमती विमला राणा, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के संयुक्त सचिव हरिपाल रावत भी टेलीकांफ्रेंसिंग में उपस्थित रहेंगे। 

श्रद्धांजलि सभा को दिल्ली-एनसीआर के सांस्कृतिक पहरुओं की बिरादरी *रंगभूमि* की ओर से आयोजित किया जा रहा है। संस्था के संयोजक कैलाश चंद्र द्विवेदी, अनिल कुमार पंत और वेद भदोला भी इस टेलीकांफ्रेंसिंग में प्रतिभाग करेंगे।

3 Comments

  1. Raibaar, Pahaad ka ko iss aayojan ke liye bahut bahut dhanywad.

    Aapke madhym se apni sanskriti ke purodhaon ko Shradhanjali dene ka sabko awsar milega.

    Ek baar punah Dhanywad. ( Dhirendra Belwal)
    Ghaziabad, Delhi NCR
    9582761246

    ReplyDelete
  2. सार्थक पहल......

    ReplyDelete

Post a comment

Previous Post Next Post