गढ़वाली गीतों के पुरोधा विख्यात गीतकार गायक जीत सिंह नेगी जी अब नही रहे

गढ़वाली गीतों के पुरोधा विख्यात गीतकार गायक जीत सिंह नेगी जी अब नही रहे

देहरादून  । उत्तराखंडी संस्कृति और कला जगत के लिए एक बेहद दुखद खबर है। उत्तराखंड के प्रसिद्ध लोकगायक और गीतकार जीत सिंह नेगी जी नही रहे। एक हफ्ते के भीतर कला जगत का दूसरा बड़ा सितारा सिधार गया। इस से पहले उत्तराखंड रत्न और प्रसिद्ध जनकवि लोकगायक हीरा सिंह राणा का निधन हो गया था।

जीत सिंह नेगी लंबे वक्त से अस्वस्थ थे। उन्होंने रविवार को अपने देहरादून स्थित आवास पर आखिरी सांस ली। जीत सिंह नेगी की उम्र 95 वर्ष थी। उनका जन्म 1925 में पौड़ी में हुआ था।

जीत सिंह नेगी के गीत तू होली बीरा, काली रतब्योन, बोल बौराणी क्या तेरो नौं च आदि बेहद प्रसिद्ध गीतों में से थे। उन्होंने आकाशवाणी से कई लोकप्रिय गीत गाये। 1960 और 70 के दशक के वे लोकप्रिय गायक रहे। जीत सिंह नेगी के भूले बिसरे गीतों को बाद में नरेंद्र सिंह नेगी ने भी स्वर देकर एक कैसेट में पिरोया था।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां