Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Hover Effects

TRUE

a1

{Entertainment}{slider-1}
{fbt_classic_header}

Header Ad

Breaking News:

latest

Ads Place

सूर्यग्रहण से आपकी राशि पर क्या पड़ेगा फर्क -देखें और खास जानकारी के लिए लिंक पर क्लिक करें

      रैबार पहाड़ का स्पेशल डेस्क देहरादून-21 जून को पड़ने वाले सूर्यग्रहण का सूतक आज रात 10 बजकर 24 मिनट पर सूतक काल शुरु हो जायेग...


      रैबार पहाड़ का स्पेशल डेस्क



देहरादून-21 जून को पड़ने वाले सूर्यग्रहण का सूतक आज रात 10 बजकर 24 मिनट पर सूतक काल शुरु हो जायेगा यानी ग्रहण लगने के ठीक 12 घंटे पहले सुतक काल शुरु हो जायेगा इस काल में मंदिरों का कपाट बंद रहेंगे कोई  शुभ कार्य नहीं किया जा सकेगा



उत्तराखण्ड विद्वत सभा के प्रवक्ता आचार्य  विजेन्द्र प्रसाद मंमगाईं ने कहा कि सूर्यग्रहण पर कंकणाकृति चंद्रमणी आकार बनेगा चंद्रमा सूर्य का अधिक से अधिक भाग ढक लेंगे।इससे देश को अंधेरा छा जाएगा सूर्य ग्रहण का राशियों पर विशेष प्रभाव पड़ेगा




                            (आचार्य गणेश जोशी)


                सूर्य ग्रहण का प्रभाव राशियों पर

मेष राशि--------- धन लाभ होगा नये मित्र बनेंगे

वृष राशि------- धन हानि स्वास्थ्य खराब

मिथून राशि----- चिन्ता दुर्घटना व्यय

कर्क राशि----धन हानि बिगड़े कार्य बनेंगे

सिंह राशि--लाभ उन्नति होगी सावधानी रखें

कन्या राशि---- रोग कष्ट भय रहेगा

तुला राशि--- संतान चिंता कष्ट रहेगा

वृश्चिक राशि---शुभमय साधरण लाभ

धनु राशि—पति-पत्नी को कष्ट

मकर राशि-रोग गुप्त चिन्ता

कुम्भ राशि- खर्च ज्यादा कार्यों में वादा

मीन राशि---कार्य सिद्धि स्वास्थ्य खराब

ग्रहण में बुजर्गों एंव बिमार व्यक्ति को कोई दोष नहीं लगता गर्भवती महिलाओं को ग्रहणकाल में सोना काटना भोजन नहीं करना चाहिए

सभी के लिए नियम-सोना,यात्रा करना पते का छेदना,तिनका तोड़ना,लकड़ी काटना,कपड़े धोना कपड़े सिलना दॉंत साफ करना भोजन करना मैथुनक्रिया,घुड़सवारी,हाथी की सवारी गाय भैंस का दुग्ध निकालना निषेध है।

ग्रहणकाल-कुलग्रहण काल का समय 3 घंटा 25 मिनट 17 सैकेंड है इससे पूर्व में पांच हजार वर्ष पहले श्री भगवान श्री कृष्ण जी ने सूर्य ग्रहण में ब्रहम सरोवर में स्नान किया था । आज तीर्थ क्षेत्र में स्नान तो नहीं कर सकते हैं पर हम अपने घर में  जलपात्र में कुशा तिल तुलसी ड़ालकर स्नान करें।

ग्रहणकाल में ईष्ट के मंत्र का जाप गायत्री मंत्र महामृत्युम्जय जाप हनुमान चालिसा का जप करें ।

ग्रहण के अंतिम समय –सरसों का तेत,उड़द,ताम्बे का पात्र गुड़ स्वर्ण  वस्त्र दान करें




No comments

Ads Place