नहीं रही मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान

नहीं रही  मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान




मुंबई/देहरादून :    मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का निधन हो गया है। मिली जानकारी के अनुसार उनका निधन शुक्रवार देर रात कार्डियक अरेस्ट के चलते मुंबई में हुआ। वह 71 साल की थीं। सरोज खान 17 जून से मुंबई के बांद्रा में स्थित गुरु नानक हॉस्पिटल में भर्ती थीं। उन्हें सांस लेने में तकलीफ की शिकायत के बाद यहां 20 जून को भर्ती कराया गया था।



उन्होंने शुक्रवार देर रात 1.52 मिनट पर अंतिम सांस ली। सरोज खान को आज मुंबई के मलाड में कब्रिस्तान में उन्हें सुपुर्द-ए-खाक किया जाएगा।



सरोज दरअसल पिछले कई दिनों से डायबिटीज और इससे संबंधित बीमारियों से जूझ रही थीं। अस्पताल में भर्ती कराये जाने के बाद उनका कोरोना जांच भी हुआ था और रिपोर्ट नेगेटिव आई थी।



तीन साल की उम्र से की शुरुआत



सरोज खान ने तीन साल की उम्र में बैकग्राउंड डांसर के तौर पर काम करना शुरू किया था। उन्हें 1974 में पहली बार 'गीता मेरा नाम' में पहली बार बतौर कोरियोग्राफर काम करने का मौका मिला। तीन बार नेशनल अवॉर्ड अपने नाम करने वालीं सरोज ने 2000 से ज्यादा गानों को कोरियोग्राफ किया।



इसमें 1987 में आई मिस्टर इंडिया फिल्म की मशहूर 'हवा-हवाई' सहित तेजाब (1988) का एक-दो तीन और बेटा (1992) का 'धक-धक करने लगा' जैसे मशहूर गाने शामिल हैं। उन्होंने देवदास (2002) में भी 'डोला रे डोला' गाने को कोरियोग्राफ किया।



सरोज ने बतौर कोरियोग्राफर आखिरी फिल्म कलंक (2019) की थी। करण जौहर के प्रोडक्शन वाली इस फिल्म में उन्होंने माधुरी दीक्षित के ही एक गाने 'तबाह हो गये' में नृत्य दिया था। इससे पहले वे कंगना रनौत की फिल्म 'मणिकर्णिकाः द क्वीन ऑफ झांसी' में भी एक गाने को कोरियॉग्राफ कर चुकी हैं। सरोज का जन्म 22 नवंबर 1948 को हुआ। उनका असली नाम निर्मला नागपाल था। विभाजन के बाद सरोज खान का परिवार पाकिस्तान से भारत आ गया था।



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां