उत्तराखंड में मिली अनोखी गुफा सोशल मीडिया में बनी चर्चा का विषय-देखें पूरी खबर

उत्तराखंड की अनोखी गुफा


देव भूमि उत्तराखंड को कुदरत ने कई खुबसूरत तोफौ से नवाजा है…. य़हाँ के कई पर्यटक स्थल हैजो अभी भी अनजाने है… अगर सरकार कोशिश करे तो इन स्थलों से इस सूबे की अर्थिकी सुधर सकती है…..
उत्तराखंड में चमोली जिलें के दुर्मी गांव में स्थित शिव कुपानी उड़ियार यानी  गुफा  इन दिनों लोगों में चर्चा का विषय बनी हुई है ।इस गुफा में कुदरतन दीवारों पर मौजूद देवी देवताओं की आकृति लोगों के आकर्षण का केंद्र बनी हुई है।  स्थानीय ग्रामीण इस गुफा को शिव मंदिर मानते है और सालों से यहां पूजा अर्चना कर रहे हैं।  लेकिन अब गुफा की तस्वीरें सोशल मीडिया पर आने के बाद ये गुफा इन दिनों खूब चर्चाओं में है ।आपको बता दे कि निजमुला घाटी  के दूर्मी गांव से 4 किलोमीटर की पैदल दूरी पर स्थित इस गुफा की जानकारी अभी  तक केवल स्थानीय लोगों तक ही सीमित  थी लेकिन अब शोसल मीडिया पर इस गुफा की तस्बीरें आने से ये गुफा देशभर में चर्चित हो चुकी है
ग्रामीणों का कहना है कि गुफाओं की दीवारों पर प्राकृतिक रूप से लकीरों से आकृतियाँ बनी हुई हैं । इसके अलावा भगवान गणेश और शिवलिंग का आकार भी चट्टान पर मौजूद है । हालांकि श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय कैंपस गोपेश्वर के भूगर्भ विज्ञान के विभागाध्क्ष डॉक्टर  अरविंद भट्ट का कहना है कि पहाड़ी क्षेत्रों में डोलोमाइट चट्टानों में इस प्रकार की आकृतियां उभरती है। वहीं चट्टानों में मौजूद खनिजों के चलते कई बार यें आकृतियां रंगीन भी नजर आती हैं । प्रदेश में पाताल भुवनेश्वर और  सहस्त्रधारा समेत कई जगहों इस तरह की चट्टाने हैं। लेकिन इस तरह की गुफा अगर है तो सरकार को इसका संरक्षण जरूर करना चाहिए ताकि इस सूबे को जियो टूरिज्म के तौर पर भी विकसित किया जा सकता है
उत्तराखंड में ऐसी अनगिनत जगह है जहाँ तक अभी भी इनसान  की पहुँच नही हो पायी है…सब जानते हैं कि कुदरत ने इस सूबे को कई नायाब तोफौ से नवाजा है अब जरूरत इस बात की है कि सरकार स्थानीय लोगों के साथ मिलकर इन पर्यटक स्थलों की देखभाल करे साथ ही बेहतर तरीके से प्रचार परसार भी करें ताकि हमारे ये अनछुए पर्यटक स्थल देश दुनियाँ के लोगों की निगाहों में आ सके…..

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां