Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Hover Effects

TRUE
{fbt_classic_header}

Header Ad

Breaking News:

latest

Ads Place

चाइनीज राखियों को छोड़ो ऐपण राखी से नाता जोड़ो-ऐपण राखी' बनी लोगों की पहली पसंद, रक्षाबंधन पर भाइयों की कलाइयों की शोभा बढाऐगी....

अभिनव पहल!-- 'ऐपण राखी' बनी लोगों की पहली पसंद, रक्षाबंधन पर भाइयों की कलाइयों की शोभा बढाऐगी.... ग्राउंड जीरो से संजय चौहान! ...

अभिनव पहल!-- 'ऐपण राखी' बनी लोगों की पहली पसंद, रक्षाबंधन पर भाइयों की कलाइयों की शोभा बढाऐगी....


ग्राउंड जीरो से संजय चौहान!




उत्तराखंड की ऐपण गर्ल मीनाकृर्ति


उत्तराखंड की ऐपण गर्ल और मीनाकृति - द ऐपण प्रोजेक्ट की सीईओ मीनाक्षी खाती नें एक बार फिर से एक अभिनव प्रयोग किया है। मीनाक्षी नें लाॅकडाउन में स्वयं के द्वारा बनाये गये ऐपण राखी तैयार की है जिसमें ऐपण कला को खूबसूरती से उकेरा है। ऐपण गर्ल नें दादी, ददा, बैणी, भुला, भैजी  बौज्यू, ब्रो सहित विभिन्न नामों की ऐपण राखी तैयार की है। ये दिखने में भी काफी आकर्षक लग रही है साथ ही हमारी लोकसंस्कृति को संजोने का कार्य भी कर रही है। यही नहीं पर्यावरण दृष्टि से भी ये राखियाँ बहुत ज्यादा सुरक्षित है क्योंकि इनमें कहीं पर भी प्लास्टिक या अन्य चीजों का उपयोग नहीं किया गया है। लोगों को ऐपण गर्ल मीनाक्षी खाती की बनायी गयी ऐपण राखी बेहद पसंद आ रही है तथा लोग इन्हें मीनाकृति- द ऐपण प्रोजेक्ट के जरिये ऑनलाइन भी मंगा रहें हैं।
राखियों का डिजाइन


गौरतलब है कि आगामी अगस्त महीने की 3 तारीख को भाई - बहिन का पावन पर्व रक्षाबंधन मनाया जायेगा। हर साल सावन महीने की पूर्णिमा को यह त्यौहार मनाया जाता है। इस दिन बहनें, भाइयों की कलाई पर राखी बांध उनकी लंबी आयु और सफल जीवन की कामना करती हैं तो वहीं भाई उनकी आजीवन रक्षा का वचन देते हैं।


ऐपण गर्ल मीनाक्षी खाती कहती है कि उन्होंने एक महीने पहले से ही ऐपण राखी बनाने शुरू कर दी थी। लोगों को ये बेहद पसंद भी आ रही है। लोग हमारे मीनाकृति - द ऐपण प्रोजेक्ट के जरिये इसको मंगा रहें हैं। 'ऐपण राखी' इस रक्षाबंधन को भाइयों की कलाइयों की शोभा बढाऐगी। लाॅकडाउन में चीनी राखियों के बदले ऐपण राखी की भारी मांग है। ऐपण राखी के जरिए आज महिलाओं को घर बैठे बैठे रोजगार मिल रहा है। रामनगर, हल्द्वानी, नैनीताल, अल्मोड़ा, पिथौरागढ़ में भी कई महिलाओं और स्वयं सहायता समूहों के द्वारा भी ऐपण से बनी राखियाँ बनाई जा रही है। मुझे खुशी है कि अब ऐपण कला घर की देहली से देश के फलक तक अपनी पहचान बना चुकी है जबकि ऐपण के कलाकारों को ऐपण से स्वरोजगार भी मिल रहा है।

अगर आप भी इस बार रक्षाबंधन का त्यौहार खास तरीके से मनाना चाहते हैं और हाथ से बनी ऐपण गर्ल मीनाक्षी खाती की ऐपण राखी को मंगाना चाहते हैं तो संपर्क कर सकते हैं... मीनाकृति -द  ऐपण प्रोजेक्ट

Minakshi Khati

No comments

Ads Place