राखुड़ि कु त्येवार-नवोदित कवित्री कविता कैन्तुरा की कविता

सबि भै-बैण्यूं तै राखुड़ि कु त्येवार की भौत भौत बधै छिन ------



 एक कविता 👇

-----"राखुड़ि"----
ऐगि राखुड़ि त्येवार 
बिधातो कन  अटूट अर 
स्वांणु बणांयू
 भै-बैण्यूं प्यार ।

द्यो-धियांणि,
दीदी-भुलि,
मैत औली,
भैजी भुलौ,
 की हथ्गुळयों 
राखी धागु
कन भलु सजोली ।

ये राख्या धागो भी कन 
अटूट बन्धन  च 
भै-बैण्यूं कन स्वांणु अर पवित्र 
 मन च।

सबि दीदी-भुली ये
त्येवार
हंसी-खुशी मनौंदिन,
दूर धारों  कखि गाड़ छाळो
बै  ऐ नी सकदि 
त! 
  समौंण भैजदि। 
कखि कैकि हाथोंन भेजदि
त कबि चिठ्ठी लिफाफा बणैतै।

ऐगि राखुड़ि त्येवार 
बिधातो कन  अटूट अर 
स्वांणु बणांयू
 भै-बैण्यूं प्यार ।

----कविता कैंतुरा खल्वा लुटियाग चिरबटिया रूद्रप्रयाग बटि ।।।।।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget