रवि रावत संवार रहे हैं सुविधाओं के अभाव वाले खिलाड़ियों का भविष्य

रवि रावत संवार रहे हैं सुविधाओं के अभाव वाले खिलाड़ियों का भविष्य

(कुलदीप सिंह बिष्ट, पौड़ी)



 पौड़ी-आज के दिन को खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है,आज के दिन ही हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद जी का जन्म हुआ था, जिसके बाद आज के दिन को खेल दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया। मगर आज बात हो रही है जिला मुख्यालय पौड़ी की। जहां का एक युवक पिछले कई सालों से सुविधाओं के अभाव में ऐसे खिलाड़ियों को बना रहा है जो पैसे के अभाव के कारण अपना भविष्य तलाशने में असमर्थ थे बात हो रही है पौड़ी के युवा फुटबाल प्रेमी रवि रावत की। रवि पहले भी फुटबॉल के रूप में कई युवाओं को तराश चुके हैं, वर्तमान में रवि 40 बच्चों को फुटबॉल के गुर सीखा रहे है, जिनमें 14 बालिकाएं भी शामिल है। इससे पहले भी रवि 50 से अधिक खिलाड़ियों को ट्रेनिंग दे चुके हैं जो राष्ट्रीय के साथ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेल चुके हैं रवि बताते हैं कि पौड़ी में फुटबॉल की अपार संभावना है मगर जिला और राज्य सरकार द्वारा अभी तक फुटबॉल के महत्व को नहीं समझा जा चुका है। हालांकि फुटबॉल को राज्य खेल का दर्जा प्राप्त है मगर उसके बावजूद भी आज भी खिलाड़ी पुराने तौर-तरीकों से ही ट्रेनिंग कर रहे हैं। सुविधाओं के अभाव के कारण इनको तराशने में दिक्कतें आती है उन्होंने बताया कि उनके द्वारा कई बार खेल विभाग के साथ-साथ उच्च पदों पर आसीन अधिकारियों को भी इस बाबत अवगत कराया गया। मगर अब तक इस और कोई ध्यान नहीं दिया गया। उन्होंने उम्मीद जाहिर की है कि आने वाले समय में खेल विभाग के साथ-साथ खेल मंत्री भी इस बाबत ध्यान देंगे और राज्य खेल को आने वाले समय में एक नए रूप में तराशने में अपनी भूमिका सुनिश्चित करेंगे।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां