वीर वीरांगना तीलू रौतेली पर कविता कैन्तुरा

 -----तीलू रौंतेली---





   अपड़ु बाळा पन

    त्याग करी जैन,

   पन्द्र बरस कि

       आयु मा।


    लाड़े लाड़ि 

     वीरोंखाळ

         कि

         प्यारी

     तीलू रौंतेली ------


  दुश्मनों तै, मारी जैंन 

  तब जे-तै अपणा भैयूं,

           अर 

   बाबा जी कु, बदलो

       पूरु करि त्वेन, 


    लाड़े लाड़ि 

     वीरोंखाळ

         कि

        प्यारी

     तीलू रौंतेली ------


   रणभूमी मा विजय,

         ह्वे, 

  जैन दी दीनि बलिदान

         अपडु।


    लाड़े लाड़ि 

    वीरोंखाळ

       कि

     प्यारी

   तीलू रौंतेली ------

  

  थकीऽ- कुसांई लड़ै मा तीलू,

            जब

   नयार का छाळा पाणी प्येण 

           जांदि!


    तबरि निर्भागी दुश्मनों न 

         पीठ पिछाडी,

     चोरमार्या वार करि,

        तीलो रौंतेलीे ।


   लाड़े लाड़ि 

    वीरोंखाळ

      कि

     प्यारी

   तीलू रौंतेली ------


    वीरोंखाळ  मा, तेरा नौं,  

        कौथिग होंदु 

  ढ़ोल-दमौं, तेरा नौं कु निसाण,

          कौथिग,

     कन भलूऽ सजदू ।


   लाड़े लाड़ि 

   वीरोंखाळ

      कि

     प्यारी

   तीलू रौंतेली ------


                                            

    -----@कविता कैन्तुरा लुटियाग चिरबटिया रूद्रप्रयाग

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां