Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Hover Effects

TRUE

a1

{Entertainment}{slider-1}
{fbt_classic_header}

Header Ad

Breaking News:

latest

Ads Place

किच्छा निवासी मोहित पुरोहित ने बनाई भारतीय tik-tok ऐप pix Creat-देखें पूरी जानकारी

  किच्छा निवासी मोहित पुरोहित ने बनाई भारतीय tik-tok ऐप pix Creat देहरादून-छोटी सी उम्र में एक युवक ने बड़ा कारनामा कर दिखाया है. किच्छा के ...

 किच्छा निवासी मोहित पुरोहित ने बनाई भारतीय tik-tok ऐप pix Creat


देहरादून-छोटी सी उम्र में एक युवक ने बड़ा कारनामा कर दिखाया है. किच्छा के रहने वाले मोहित ने चाइनीज टिक-टॉक ऐप की तरह इंडियाज टिक-टॉक बनाकर अपने हुनर का लोहा मनवाया है. हैरानी की बात यह ये कि मोहित ने इस ऐप को डेवलप करने के लिए महज एक महीने का वक्त लगाया है. कहते हैं प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं होती यह लाइनें 17 साल के युवक पर सटीक बैठती है. उधम सिंह नगर जिले के किच्छा निवासी मोहित पुरोहित ने 17 साल की उम्र में यह कारनामा कर दिखाया है. मोहित ने चाइनीज टिक-टॉक ऐप की तरह एक ऐप तैयार किया है, जिसे उसने 15 अगस्त को लॉन्च भी कर दिया. ऐप के लॉन्च हो जाने के बाद अब तक हजारों लोग इस ऐप से जुड़ भी चुके हैं.


किच्छा के सेन्ट पीटर्स स्कूल के 11वीं के छात्र मोहित पुरोहित को बचपन से ही ऐप डेवलपमेंट का शौक था. महज 13 वर्ष की उम्र में मोहित ने अपना पहला मोबाइल ऐप बनाया, जिसका नाम पिक्स क्रिएट दिया था. बेटे की प्रतिभा को उनके पिता ब्रह मानंद जल्द ही पहचान गए और उन्होंने मोहित का हौसला बढ़ाते हुए उन्हें नया लेपटॉप खरीदवा दिया. जिसके बाद से मोहित के सपनों को पंख लग गए और उन्होंने टिक-टॉक की तरह ही एक ऐप बना लिया.


मोहित ने बताया कि इस ऐप का नाम इंडियाज टिक-टॉक रखा है, जो चायनीज ऐप टिक-टॉक की तरह है. मोहित ने बताया कि उनका बनाया ऐप टिक-टॉक की तुलना में काफी अपडेटेट है. इसमें ना सिर्फ वीडियो अपलोड होंगी बल्कि इनकी मॉनिटरिंग भी होगी. वहीं, उनकी ओर से ऐप में जल्द ही कई और फीचर्स जोड़ेने की तैयारी की जा रही है. मोहित ने बताया कि बचपन से उन्हें ऐप डेवलप करने का शौक था. जो धीरे- धीरे जनून में बदल गया. पहले दिन के कुछ घंटे ही वो ऐप को तैयार करने में देते थे. लेकिन शौक बढ़ने के साथ-साथ वे घण्टों मेहनत कर ऐप को डिजाइन करने लगे. जिसका नतीजा है कि उसने ये ऐप टिक-टॉक से बेहतर तैयार की है.


मोहित ने बताया कि आगे चलकर वह और भी ऐप डिजाइनिंग करना चाहते हैं, जिसमें उन्हें परिवार का भरपूर सहयोग मिल रहा है.

(वरिष्ठ पत्रकार डॉ मोहन पहाड़ी की फेसबुक वॉल से)

No comments

Ads Place