पर्वतीय राज्य मंच का संकल्प बोली भाषा संस्कृति को जीवंत रखना

 पर्वतीय राज्य मंच का संकल्प बोली भाषा संस्कृति को जीवंत रखना



आज दिनांक 2 सितंबर 2020 को स्वप्न फिल्म के कार्यालय में उत्तराखंड के राज्य आंदोलन में शहीद सभी शहीदों को सादर श्रद्धांजलि पर्वतीय राज्य मंच के द्वारा दी गई। पर्वतीय राज्य  मंच विगत 3 सालों से लगातार 1 सितंबर को कुमाऊनी भाषा दिवस एवं 2 सितंबर को गढ़वाली भाषा दिवस के रूप में मनाता आ रहा है ।संगठन की सोच पहाड़ की बुनियादी भावनाओं को और जनमानस के बीच में पुनर्जीवित करने की है जिससे कि  पहाड़ एवं पहाड़ी समाज अपने राज्य की मूल संस्कृति मूल भावना को समझ सके। कार्यक्रम में उत्तराखंड के सुविख्यात निर्देशक श्री अनुज जोशी  ने उत्तराखंड के सभी शहीदों को अपनी विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कुमाऊंनी एवं गढ़वाली  भाषा  के इतिहास  व महत्व  को  अपने विचारों से प्रकाशित किया । वही संगठन के अध्यक्ष श्री गंभीर सिंह  ज्याड़ा ने संगठन के सभी साथियों से उत्तराखंड की मूल संस्कृति को आगे बढ़ाने के लिए संकल्प लिया संगठन के महासचिव गिरीश सनवाल पहाड़ी ने अपने विचार रखते हुए संगठन को  संगठनात्मक रूप में मजबूत करने की पहल की। कार्यक्रम में लोक गायक जितेंद्र पंवार व फ़िल्म अभिनेता दीपक रावत  ने भी अपने विचार प्रकट किए।निवेदक- पर्वतीय राज्य मंच

Post a Comment

Previous Post Next Post