गजब-सेना भर्ती अभ्यर्थियों को थमाई फर्जी कोविड टेस्ट रिपोर्ट, 1-1 हजार रुपये में हुआ कोविड टेस्ट-जानिए कहां का है पूरा मामला

 सेना भर्ती अभ्यर्थियों को थमाई फर्जी कोविड टेस्ट रिपोर्ट, 1-1 हजार रुपये में हुआ कोविड टेस्ट

(मनोज नौडियाल)


कोटद्वार।नैनीताल जिले के रामनगर स्थित संयुक्त चिकित्सालय में कोरोना टेस्ट रिपोर्ट में एक बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है।यहां सेना भर्ती में शामिल होने जा रहे युवकों से रुपए लेकर लैब कर्मचारियों द्वारा फर्जी कोविड टेस्ट रिपोर्ट दी गई है।रामनगर।क्षेत्र में स्थित संयुक्त चिकित्सालय में बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है।यहां लैब में कार्यरत कर्मचारियों ने 100 से ज्यादा सेना भर्ती की तैयारी कर रहे युवकों को ₹500 से ₹1,000 लेकर बिना जांच के ही फेक कोरोना टेस्ट रिपोर्ट दे दी है.

फर्जी कोविड टेस्ट रिपोर्ट।

दरअसल, यूथ फाउंडेशन पिरूमदारा के युवक सेना भर्ती की तैयारी कर रहे हैं. भर्ती में शामिल होने के लिए कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव होना जरूरी है। इसके लिए छात्र संयुक्त चिकित्सालय पहुंचे. जहां लैब में कार्यरत कर्मचारियों ने ₹500 से ₹1000 लेकर फर्जी कोरोना रिपोर्ट दे दी। वहीं, युवकों को दी गई कोरोना रिपोर्ट में नोडल अधिकारी प्रशांत कौशिक की मुहर भी लगी हुई है. जबकि, साइन किसी अन्य व्यक्ति द्वारा किये गए हैं।नोडल अधिकारी प्रशांत कौशिक ने बताया कि कोरोना रिपोर्ट में जो साइन हैं,वो फर्जी हैं।उन्होंने ये साइन नहीं किये हैं।उन्होंने इस मामले में रामनगर कोतवाली में एफआईआर दर्ज कराने की बात कही है।उन्होंने कहा कि चिकित्सालय में दो महीने पूर्व से रैपिड एंटीजन टेस्ट नहीं किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि 100 से ज्यादा युवकों को दी गई रिपोर्ट 21 से 27 दिसंबर की है, जो फर्जी है।रामनगर संयुक्त चिकित्सालय के निदेशक राकेश वाटर ने कहा कि मामला संज्ञान में आया है। उन्होंने कहा कि कोतवाली में शिकायत के बाद मामले की जांच की जा रही है. बता दें कि लैब कर्मचारियों द्वारा दी गई रिपोर्ट के एवज में युवकों से ₹500 से लेकर ₹1,000 लिए गए हैं।जबकि, संयुक्त चिकित्सालय में कोरोना की जांच फ्री में होती हैं और अभी रैपिड एंटीजन टेस्ट नहीं हो रहे हैं।


Post a Comment

Previous Post Next Post