नारी आन बान च, द्वी घरों की शान च-कवि बेलीराम कंसवाल की नारी तैं समर्पित कविता

 अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ समस्त नारी शक्ति को समर्पित मेरी कविता से कुछ पंक्तियाँ। ।





(गढ़वाली मुक्तक प्रति चरण 11-11मात्राएँ )


          नारी   आन    बान   च,

          द्वी  घरों   की  शान  च। 

          पृथि मा  बरदान  च  व ,

          धिरगमै   की  खान  च।। 


          प्रेम  की  व   डाळी  च,

          मनै   भलि  मयाळी च।

          औंसि  का  अंध्यार  म,

          दिवा कि  उज्याळी  च।।


          औखा मा कि  सार   च,

          व्याधि  मा  उपचार  च।

          सब्बु मा  बसीं च  जोन   ,

          व प्राणु  कु  आधार  च।  


          व आंदि-जांदि सांस  च,

          व खुशालि की आस च।

          देवतौं   कु   थान   वख,

          नारि को जख  वास  च।।


बेलीराम कनस्वाल

घनसाली,टिहरी गढ़वाल,उतराखण्ड।

1 Comments

Post a comment

Previous Post Next Post