कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर से बढ़ सकती है अभिभावकों की मुश्किलें

 (कुलदीप सिंह बिष्ट, पौड़ी रैबार पहाड़ का )

कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर से बढ़ सकती है अभिभावकों की मुश्किलें



कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर से बढ़ सकती है अभिभावकों की मुश्किलें । विशेषज्ञों की माने तो सितंबर माह से कोरोना की तीसरी लहर हो सकती है बच्चों के लिए मुश्किल भरी।बताया जा रहा है कि यह संक्रमण देशभर के बच्चों में तेजी से फैलने लगेगा। वही बात की जाए उत्तराखंड की तो उत्तराखंड में जिस तरह स्वास्थ्य सेवाओं की हालत लचर बनी हुई है। इसको देखते हुए कोरोना की तीसरी लहर से ज्यादा दिक्कतें बढ़ती हुई दिखाई दे रही हैं। इसका सबसे ज्यादा  खतरा ग्रामीण क्षेत्रों में  बना हुआ है। वहीं सीएमओ गढ़वाल मनोज शर्मा ने बताया कि कोरोना की तीसरी लहर के बारे में अनुमान लगाया जा रहा है इसका कोई भी साइंटिफिक प्रूफ नहीं है इसकी संभावनाएं लगाई जा रही है कि सितंबर माह से कोरोना की तीसरी लहर आएगी। जिसके बाद फिर से केसों की संख्या बढ़ने का खतरा है। उन्होंने बताया कि इस तीसरी लहर में बच्चों को सबसे ज्यादा खतरा बताया जा रहा है।

जिसे रोकने के लिए हमें गाइडलाइन दी गई है कि हमें किस तरह की तैयारियां करनी होंगी। सीएमओ ने इस लहर में 10 साल तक के बच्चों का संक्रमित होने का सबसे ज्यादा खतरा बताया है इसलिए हमारे द्वारा सभी कोविड-अस्पतालों  में छोटे बच्चों को देखने के लिए एन0आई0सी0यू0( निक्कू) को और बड़े बच्चों को देखने के लिए पी0आई0सी0यू0( पिक्कू) की तैयारियां करवा रहे है। वही उनके द्वारा बताया गया कि निक्कू की व्यवस्था बड़े अस्पतालों में ही हो पाएगी। जबकि पिकु के लिए सभी कोविड- अस्पतालों  में व्यवस्था की जा रही है। वही अभी संक्रमण से घबराए अभिभावकों का कहना है कि हमें अपने बच्चों की सुरक्षा के लिए तथा बीमारी से लड़ने के लिए पहले से ही तैयारियां करनी होंगी उनके स्वास्थ्य को देखते हुए सरकार द्वारा जारी गाइडलाइंस का अनिवार्य रूप से पालन करवाना होगा जिससे कि  हमारे बच्चों को इस संक्रमण से बचाया जा सके।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget