RT-PCR टेस्ट के नाम पर फर्जी क्लिनिक कर रही लोगों की जान से खिलवाड़-जानिए पूरी खबर

 RT-PCR टेस्ट के नाम पर फर्जी क्लिनिक कर रही लोगों की जान से खिलवाड़-जानिए पूरी खबर





  देहरादून-थाना प्रेमनगर को कंट्रोल रूम के माध्यम से सूचना प्राप्त हुई की प्रेमनगर स्थित स्वास्थ्य क्लीनिक में कुछ लोगों द्वारा लोगों के RT-PCR टेस्ट की सैंपलिंग के एवज में 1500/- रुपए लिए जा रहे है जबकि सरकार द्वारा आर0टी0- पीसीआर टेस्ट का मूल्य ₹500/- निर्धारित किया गया है।  उक्त सूचना पर थाना प्रेमनगर पुलिस द्वारा स्वास्थ्य विभाग से संपर्क स्थापित कर,  स्वास्थ विभाग व पुलिस की संयुक्त टीम के साथ प्रेमनगर विंग नंबर-  3 स्थित स्वास्थ्य क्लिनिक में छापेमारी की कार्रवाई की गई।  मौके से पुलिस टीम द्वारा उक्त क्लीनिक में रखे दस्तावेजो को कब्जे में लिया गया,  जिनकी जांच पड़ताल में जानकारी हुई कि स्वास्थ्य क्लीनिक में स्थित लैब को  RT-PCR टेस्ट का कोई वैध लाइसेंस राज्य सरकार द्वारा निर्गत नहीं किया गया है।  उक्त क्लिनिक के मालिक द्वारा अपने कर्मियों के माध्यम से कोविड परीक्षण कराने वाले जरुरतमंदो से सम्पर्क स्थापित किया जाता है तथा Home Sample collection के नाम पर प्रति सैम्पल 1500/- रुपये लिए जाते है, इसके उपरान्त उनके द्वारा अलग-अलग पैथोलॉजी लैब मे 500/- रुपये मे परीक्षण कराकर प्रति सैम्पल 900/- रुपये की मुनाफाखोरी करता है । मौके पर पुलिस द्वारा उक्त क्लिनिक के मालिक से पूछताछ की गयी तो उसके द्वारा बताया गया कि वह जरुरतमंदो का कोविड परीक्षण हेतु सैम्पल घर से प्राप्त करता था तथा प्रति सैम्पल 1500/- रुपये लेता है । इसके उपरान्त विभिन्न लैबो मे जाकर 500/- रुपये में उनका परीक्षण कराता था,  जिससे उसे प्रति सैम्पल 900/- रुपये का मुनाफा होता था ।  मौके से पुलिस द्वारा क्लिनिक के मालिक आलोक पुत्र दिनेश चंद्र निवासी राघव बिहार फेज- 1, थाना प्रेमनगर,  उम्र 32 वर्ष को गिरफ्तार किया गया।  उक्त संबंध में स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा अग्रिम कार्रवाई की जा रही है।

Post a Comment

Previous Post Next Post