Breaking News

Saturday, June 12, 2021

 *लॉक डाउन मे जगगारूकता का सन्देश दे रहा एस सजवाण प्रोडक्शन डिजिटल चेनल का रस्याण व आध्यात्मिक चर्चा कार्यक्रम*


कोविड-19 महामारी की दुसरी लहर के बाद जंहा सरकार व प्रशाशन को एक बार फीर से बढते संक्रमण के बाद लॉक डाउन लगाना पडा वंही इस बार संक्रमण की संख्या भी उत्तराखण्ड के पहाडी जिलो मे बढती नजर आई घर पर लॉक डाउन के बाद कोविड संक्रमण के भय ने लोगो के मन मस्तिस्क मे नकारात्मक सोचने को मझबुर कर दिया जिसके बाद उत्तराखण्ड के जाने माने उद्वघोषक सुनील सजवाण ने अपने एस सजवाण प्रोडक्शन डिजिटल चेनल के माध्यम मे सांय 6 से 7 बजे तक उत्तराखण्ड की लोक संस्कृति को लेकर उत्तराखण्ड के लोक गायक व युवा गायको के साथ संस्कृति के तहत वार्तालाप व लोक गीतो की प्रस्तुती के तहत " रस्याण " कार्यक्रम की  लाईव शुरुआत प्रारम्भ की धीरे धीरे लोगो को लॉक डाउन के एसे समय पर जब वह घर पर बैठे थे व मानसिक तनाव के कारण वर्तमान के हालात को देखकर परेशान थे एसे समय पर लोक गायको युवा गायको के साथ एंकर सुनील सजवाण के सवाल व गायको के जबाब व गीतो की प्रस्तुती लोगो को अच्छी लगने लगी व लोग इस कार्यक्रम को पसन्द करने लगे व आज लोग  सांय 6 बजे का इंतजार करते नजर आते है कि कब रस्याण कार्यक्रम आएगा |

इसके बाद एस सजवाण प्रोडक्शन पर गांव गांव मे फेल रहे बुखार के बाद स्वास्थ्य चर्चा की भी शुरूआत कर दी गई जिसमे देश के विभिन्न जगह से डाक्टर स्वास्थ्य संम्बधित सलाह इस कार्यक्रम मे देते थे |

वंही कुछ दिन बाद एस सजवाण प्रोडक्शन डिजिटल चेनल ने लॉक डाउन के एसे समय मे जब सब अपने घरो मे है वंही समाज मे सकारात्मक भाव कैसे आंए को देखते हुए आध्यात्मिक चर्चा कार्यक्रम की शुरूआत प्रत्येक दिन रात्री 9 से 10 बजे तक की लोग धीरे धीरे आध्यात्म की इस दिव्य चर्चा को पसन्द करने लगे क्योंकी इस चर्चा मे आध्यात्म धर्म व संस्कारो को लेकर वार्ता होने लगी व आध्यात्म के वो पुरोधा जो धर्म ग्रन्थो का ज्ञान रखते हो कथा वक्ता हो इस कार्यक्रम मे प्रतिभाग करने लगे व एंकर सुनील सजवाण के आध्यात्म धर्म व संस्कारो से जुडे सवाल जो प्रत्येक इंसान सोचता है के जबाब देने लगे |

एस सजवाण प्रोडक्शन के प्रमुख सुनील सजवाण ने बताया की रात्री 9 से 10 बजे तक चलने वाली आध्यात्मिक चर्चा का मुख्य उदेश्य हमारी आने वाली पीढी व वर्तमान को हमारे धर्मग्रन्यों का ज्ञान हो सके व धर्म की रक्षा के साथ साथ हमारा भविष्य संस्कारवान हो सके है जिसमे श्रीमदभागवत, रामकथा, शिव पुराण, देवी भागवत कथा आदी के कथा वक्ता आचार्य या धर्म व आध्यात्म से जुडे लोग इस कार्यक्रम का हिस्सा बन रहे है |

सुनील सजवाण ने बताया की वह इस जनजागरूकता मे लोक गायक सूर्यपाल श्रीवाण के फेसबुक पेज से लोक संस्कृति को लेकर छुंई बात कार्यक्रम भी चला रंहे है |

छुंई बात व रस्याण मे प्रसिद्व लोक गायिका मीना राणा, सुर्यपाल श्रीवाण, अनिशा रांगड, दिवान सिंह पंवार, राम कौशल, देवेन्द्र पंवार, अर्जुन सेमलियाट ,शेर सिहं डोगरा, अमित पयाल,महिपाल माही,सन्नी दयाल, महेन्द्र सिहं चौहान, मनोज सागर, कृति वंशल, दुर्गा सागर, विनिता रावत, सीमा पंगरियाल, अनिल धुर्याल, सुरेन्द्र सिहं, अमित पयाल, सुनील जौनपुरी , बीना बोरा आदी लोग अपनी प्रस्तुती दे चुके है वंही आध्यात्मिक चर्चा कार्यक्रम  मे आचार्य वेद प्रकाश (विवेक) नौटियाल, गढवाली रामायण व भगवत गीता के रचियता देवेन्द्र प्रसाद चमोली, आचार्य हरि किशोर, प्रभात शास्त्री, आचार्य नवल किशोर , आचार्य शिव राम भट्ट, आचार्य महावीर प्रसाद शास्री, आचार्य नरेन्द्र जोशी, आचार्य रविन्द्र दत्त लेखवार, डा० रामभुषण विज्लवाण, आचार्य राम शंकर शास्त्री, मनोज भट्ट, आचार्य राकेश भट्ट, आचार्य सतीश चमोली, संस्कृति थपलियाल  रह चुके है |

सुनील सजवाण ने बताया की उनकी टीम के द्वारा समाज सेवी बचन सिंह रावत व अन्य लोगो के सहयोग से आवश्यक परिवारो को कोविड के इस दौर मे  राशन भी उपलब्ध कराई गई  सुनील सजवाण ने बताया की  उनकी टीम मे लोक गायक सुर्यपाल श्रीवाण, शुशिल सजवाण, अरविन्द राज सुनवाल, प्रकाश नौटियाल, शिवांश सजवाण, आचार्य विवेक नौटियाल, संजय चंखवाण, संदीप पंवार, राम कौशल, महिपाल पंवार आदी लोग मौजुद है जिनके सहयोग से प्रत्येक दिन एस सजवाण प्रोडक्शन यु टुब चेनल व फेसबुक पेज के माध्यम से सीधा प्रसारण जनजागरूकता के तहत इन कार्य क्रमो का हो रहा है |