Breaking News

Saturday, June 19, 2021

जज्बा: रुद्रप्रयाग के इन युवाओं ने नदी किनारे बसे लोगों को सुरक्षित स्थान तक पहुँचाया-देखिए‌ वीडियो

 रामरतन सिह पवांर/जखोली


जज्बा: रुद्रप्रयाग के इन युवाओं ने नदी किनारे बसे लोगों को सुरक्षित स्थान तक पहुँचाया

युवाओं ने रात तीन बजे तक चलाया राहत-बचाव अभियान

नदी किनारे रह रहे लोगो को पहुँचाया सुरक्षित स्थानों पर 



रुद्रप्रयाग। शुक्रवार रात अलकनंदा और मंदाकिनी नदी का जल स्तर तेजी से बढ़ रहा था। नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही थी। नदी किनारे बसे लोगों में अफरा-तफरी का माहौल था। प्रशासन की ओर से लगातार अनाउंसमेंट किया जा रहा था कि नदी किनारे रह रहे लोग घरों को छोड़कर सुरक्षित स्थानों पर चले जाएं। समस्या यह थी कि लोगों के पास कोई सुरक्षित ठिकाना नहीं था। 



इस विकट समस्या के बीच रुद्रप्रयाग के नौजवान आगे आएं। भारी बारिश के बीच युवाओं ने नदी किनारे रह रहे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुँचाने का अभियान शुरू किया। इसमें मुख्य रूप से जन अधिकार मंच के अध्यक्ष मोहित डिमरी, विक्रांत खन्ना, लक्ष्मण बिष्ट, विक्रांत चौधरी, सरदार सिंह पंवार, संदीप रावत, प्रशांत डोभाल, प्रवीन मनवाल आदि शामिल थे। इन युवाओं ने बेलनी, मकड़ी बाजार, हनुमान मंदिर सहित अन्य स्थानों पर रह रहे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भिजवाया। स्थानीय युवाओं का यह अभियान रात तीन बजे तक चलता रहा।

 

स्थिति यह थी कि अलकनंदा नदी के खतरे के निशान के ऊपर बहने के बावजूद कई लोग घरों में ही रह रहे थे। ऐसे लोगों को युवाओं द्वारा सुरक्षित स्थान पर पहुँचाया गया। स्थानीय युवाओं द्वारा किये गए इस कार्य की हर किसी ने भूरि-भूरि प्रशंसा की। वहीं जन अधिकार मंच के अध्यक्ष मोहित डिमरी ने बताया कि लगातार जल स्तर बढ़ने से 2013 की आपदा दिमाग में दौड़ रही थी। कोई बड़ी अनहोनी न हो, इसके लिए हम सभी युवाओं ने तय किया कि नदी किनारे से सभी लोगों के घरों को खाली करवाकर उन्हें सुरक्षित स्थान पर पहुँचाने का अभियान चलाया जाय। इसके बाद देर रात तक अभियान चलता रहा। इस दौरान लोगों को रहने-खाने की सुविधा हेतु एसडीएम, नगर पालिका अधिशासी अधिकारी, आपदा प्रबंधन अधिकारी और पुलिस के अधिकारियों से भी फोन पर लगातर बातचीत की जा रही थी। उन्होंने कहा कि किसी भी तरह के संकट में लोगों की मदद के लिए स्थानीय युवा हर समय तत्पर हैं।