Breaking News

Monday, July 19, 2021

मशहूर गीतकार और निर्देशक गणेश वीरान ने राजनीतिक दलों पर कलाकारों की अनदेखी का लगाया आरोप-क्या कहा वीरान ने

 मशहूर गीतकार और निर्देशक गणेश वीरान ने राजनीतिक दलों पर कलाकारों की अनदेखी का लगाया आरोप

(कुलदीप सिंह बिष्ट, पौड़ी)



पौड़ी-फिल्मों के मशहूर निर्देशक व गीतकार गणेश वीरान ने किसी भी राजनीतिक दल द्वारा अपने चुनावी एजेंडे में संस्कृति कर्मी, फिल्मकारों के लिए कोई नीति शामिल न किए जाने पर खासी नाराजगी जताई है। गणेश वीरान ने कहा कि राज्य बनने के बाद दलों से काफी उम्मीदें फिल्मकारों, रंग कर्मियों को थी लेकिन इस दिशा में कोई पहल न किए जाने से आज कलाकारों स्वयं को ठगा सा महसूस कर रहे हैं। उन्होंने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि राज्य में फिल्म बोर्ड के गठन को लेकर पहले कांंग्रेस सरकार और बाद में भाजपा सरकार के सम्मुख भी मांग रखी गई लेकिन इस दिशा में राजनीतिक दिलों द्वारा दिलचस्पी न लिए जाने से आज उत्तराखंड फिल्म इंडस्ट्री ठीक से अस्तित्व में नहीं आ पाई।उन्हें सबसे ज्यादा हर्ष इस बात से हुआ  कि राज्य में फिल्मांकन की अपार संभावनाओं के बाद भी कलाकारों, रंग कर्मियों फिल्मकारों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है। निर्देशक गणेश वीरान ने कहा कि राजनीतिक दलों के घोषणा पत्राें में कलाकारों, फिल्मकारों के लिए कोई जगह न होना दुर्भाग्य पूर्ण है। कहा कि राज्य बनने के बाद इस दिशा में कार्य होता तो आज राज्य की फिल्म इंडस्ट्री एक उद्योग के रुप में राज्य के विकास में ही कार्य करती है। उन्होने सभी फिल्मकारों, रंग कर्मियों, संस्कृति कर्मियों को एक मंच पर आकर इस दिशा में सरकार को जगाने का आह्वान किया है। वही वीरान ने 2022 चुनाव में इन राजनीतिक दलों को चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर अभी भी कलाकारों की सुध नहीं ली जाती है तो इसका खामियाजा उन्हें 2022 के चुनाव में भुगतना पड़ेगा।