July 15, 2024

वीर वीरांगना तीलू रौतेली पर कविता कैन्तुरा

1
शेयर करें

 —–तीलू रौंतेली—

electronics

   अपड़ु बाळा पन

    त्याग करी जैन,

   पन्द्र बरस कि

       आयु मा।

    लाड़े लाड़ि 

     वीरोंखाळ

         कि

         प्यारी

     तीलू रौंतेली ——

  दुश्मनों तै, मारी जैंन 

  तब जे-तै अपणा भैयूं,

           अर 

   बाबा जी कु, बदलो

       पूरु करि त्वेन, 

    लाड़े लाड़ि 

     वीरोंखाळ

         कि

        प्यारी

     तीलू रौंतेली ——

   रणभूमी मा विजय,

         ह्वे, 

  जैन दी दीनि बलिदान

         अपडु।

    लाड़े लाड़ि 

    वीरोंखाळ

       कि

     प्यारी

   तीलू रौंतेली ——

  

  थकीऽ- कुसांई लड़ै मा तीलू,

            जब

   नयार का छाळा पाणी प्येण 

           जांदि!

    तबरि निर्भागी दुश्मनों न 

         पीठ पिछाडी,

     चोरमार्या वार करि,

        तीलो रौंतेलीे ।

   लाड़े लाड़ि 

    वीरोंखाळ

      कि

     प्यारी

   तीलू रौंतेली ——

    वीरोंखाळ  मा, तेरा नौं,  

        कौथिग होंदु 

  ढ़ोल-दमौं, तेरा नौं कु निसाण,

          कौथिग,

     कन भलूऽ सजदू ।

   लाड़े लाड़ि 

   वीरोंखाळ

      कि

     प्यारी

   तीलू रौंतेली ——

                                            

    —–@कविता कैन्तुरा लुटियाग चिरबटिया रूद्रप्रयाग

About Post Author

1 thought on “वीर वीरांगना तीलू रौतेली पर कविता कैन्तुरा

  1. Wow, marvelous blog layout! How long have you been running a blog for?
    you make running a blog glance easy. The overall glance of
    your site is fantastic, let alone the content material!

    You can see similar here sklep internetowy

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

रैबार पहाड़ की खबरों मा आप कु स्वागत च !

X