Big breaking: कीर्तिनगर में लोगों को बैचैन करने वाले गुलदार को वन विभाग ने सुलाया चैन की नींद, पांच लोगों पर गुलदार ने किया था हमला

शेयर करें

कुलदीप सिंह बिष्ट, पौड़ी

कीर्तिनगर में आतंक मचाने वाले गुलदार को वन विभाग ने किया ढेर पांच लोगों पर किया था हमला


इन दिनों पहाड़ों में मानव और वन्य जीव संघर्ष अपने चरम पर है लगातार पहाड़ों से ऐसी खबरें सामने आती रहती है जहां पर गुलदार द्वारा लोगों पर हमला किया जाता है, और कई लोगों को गुलदार ने अपना निवाला भी बनाया है.
इसी बीच जनपद टिहरी के कीर्ति नगर विकासखंड से एक राहत देने वाली खबर आ रही है यहां पर वन विभाग की टीम ने कड़ी मशक्कत के बाद एक आदमखोर गुलदार को खत्म कर दिया है इस गुलदार ने दो दिनों के अंदर 9 लोगों पर हमला किया, जिमसें से चार वनकर्मी भी थे.
बीती गुरुवार 22 फरवरी को गुलदार ने इलाके में पांच महिलाओं पर हमला किया था. जिसको लेकर क्षेत्र में भय का माहौल पैदा हो गया था. तभी से वन विभाग की टीम गुलदार को पकड़ने में लगी हुई थी. गुलदार को मारने के लिए चार गोली चलाई गई थी. चौथी गोली गुलदार को लगी, जिसमें वो ढेर हो गया. वन विभाग का कहना है कि गुलदार को आत्मरक्षा में मारा गया है.

वन विभाग की टीम से प्राप्त जानकारी के अनुसार गुरुवार 22 फरवरी को कीर्तिनगर विकासखंड के नैथाणा और डांग गांव में गुलदार ने पांच महिलाओं पर हमला किया था. पांचों महिलाओं का श्रीकोट के बेस हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था. गुलदार के इन हमलों के बाद से ही इलाके के लोग काफी डरे हुए थे.

वहीं, इन हमलों के बाद वन विभाग की टीम गुलदार को पकड़ने के लिए इलाके में सर्च ऑपरेशन चल रही थी. आज शुक्रवार 23 फरवरी सुबह गुलदार देवप्रयाग विधायक विनोद कंडारी के आवास के चंद कदमों की दूरी पर होटल में कमरे में घूस गया था. होटल मालिक ने समझारी दिखाते हुए कमरे का दरवाजा बंद किया और विधायक व वन विभाग को तत्काल गुलदार की सूचना दी, लेकिन वन विभाग की टीम के मौके पर पहुंचने से पहले से ही गुलदार कमरे की खिड़की से खेत में भाग गया, जहां गुलदार ने एसडीओ अनिल पैन्यूली, वनकर्मी महावीर, गुड्डू और तेज सिंह पर हमला किया.

गुलदार के हमले से घायल हुए चारों लोगों को बेस हॉस्पिटल श्रीकोट में भर्ती कराया गया. वहीं गुलदार को मारने के लिए वन विभाग के शूटरों को भी बुलाया गया, जिन्होंने करीब आठ घंटे तक गुलदार का पीछा किया. करीब आठ घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद शूटरों ने गुलदार को ढेर किया.

गुलदार को ढेर करने वाली टीम को देवप्रयाग विधायक विनोद कंडारी ने 15000 हजार रुपए का नकद इनाम देने की घोषणा की है. गुलदार के आतंक से लोग काफी डरे हुए थे. टिहरी डीएफओ अमित कंवर ने बताया कि गुलदार वनकर्मियों की गोली से मारा गया. दो दिन में गुलदार 9 लोगों पर हमला कर किया था, जिसमें से चार वन विभाग के कर्मचारी थे. आत्मरक्षा में गुलदार को मारा गया है.

About Post Author

You may have missed

रैबार पहाड़ की खबरों मा आप कु स्वागत च !

X